मणिपुर महिला पहलवानों के बाद कर्नाटक सेक्स स्कैंडल पर मोदी की चुप्पी क्यों (शिव प्रकाश सिंह)

मणिपुर महिला पहलवानों के बाद कर्नाटक सेक्स स्कैंडल पर मोदी की चुप्पी क्यों (शिव प्रकाश सिंह)

मणिपुर महिला पहलवानों के बाद कर्नाटक सेक्स स्कैंडल पर मोदी की चुप्पी क्यों (शिव प्रकाश सिंह)

निष्पक्ष जन अवलोकन

सतीश कुमार सिंह 

सीतापुर!यह कैसी विडम्बना है कि खुद को विश्व गुरु की उपाधि से नवाज रहे प्रधानमंत्री मोदी जी अपने अब तक के दस वर्षों के कार्यकाल में मां बहन और देवियों की उपाधि से सम्मानित समाज में 50% की हिस्सेदार महिलाओं के शोषण पर मौन क्यों धारण कर लेते हैं!यह बात राष्ट्रीय सचिव/प्रदेश प्रभारी किसान मंच शिव प्रकाश सिंह ने जारी प्रेस विज्ञप्ति में कही है!उन्होंने कहा कि हम सभी देशवासियों का दुर्भाग्य है कि देश के सर्वोच्च पद पर एक ऐसे जिम्मेदार को बिठा रखा है जो सत्ता सुख और निजी स्वार्थो के अलावा जनहित के सभी मुद्दों पर न सिर्फ नकारा सिद्ध हुआ है, बल्कि अपने क्रियाकलापों से समूचे विश्व में भारत की किरकिरी कराने में लगा है!मणिपुर में महिलाओं के साथ हुए दुर्व्यवहार के अलावा उन्हें सड़कों पर नंगा घुमाने वाले लोगों के विरुद्ध कोई कार्यवाही न होने की बात तो अलग है महोदय ने वहां पहुंच कर संवेदना व्यक्त करना भी उचित नहीं समझा!अपने पराक्रम से देश का नाम रोशन कर पदक हासिल करने वाली महिला पहलवानों द्वारा अपने शोषण के विरुद्ध उठाई गई आवाज और आंदोलन में उन सभी को धरना स्थल से किस तरह प्रमाणित कर खदेड़ा गया था यह सभी देशवासियों के अलावा समूचे संसार को पता है!और अब कर्नाटक में देश के सर्वोच्च प्रधानमंत्री पद का दायित्व निभा चुके देवगौड़ा के पौत्र का उजागर हुआ काला कारनामा जो खुद सांसद हैं,हजारों महिलाओं के यौन शौषण का वीडियो बनाकर उन्हें ब्लैकमेल कर रहा था,खुलासा होने पर मा० मोदी जी के संरक्षण में वर्तमान लोकसभा चुनाव प्रत्याशी तौर पर स्वयं प्रधानमंत्री महोदय उसके चुनाव प्रचार में अपने नाम पर उसे वोट देने की गुहार लगा रहे हैं!मोदी जी में नैतिकता की जरा सी भी जगह है तो चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए या फ़िर उस दोषी को विदेश से वापस लाकर खुलेआम उसे उसके कर्मों की सजा दिलवानी चाहिए!अन्यथा देश की आधी आबादी प्रताड़ित महिलाएं, किसान,बेरोजगार,गरीब मजदूर,जनता जनार्दन चल रहे लोकसभा चुनाव में अब तक के सभी झूठे वादों के साथ अपने उत्पीड़न का वह हिसाब लेगी जिसके अब वह खुद जिम्मेदार है!