औरैया (दीपक कुमार पाण्डेय) बरसाती नाला की सफाई अधूरी किसानो में आक्रोश।


कई छोटे बडे बरसाती नालो को जोडने वाला ढिकियापुर कंचौसी बबीना दहगांव नाले की सफाई आधी अधूरी किए जाने से बरसात में किसानों को बाढ के पानी से इस मर्तबा भी धान की फसल डूबने का खतरा है.क्योकि सिंचांई विभाग के ठेकेदार ने मानक के अनुसार नाले की सफाई नही कराई जिससे किसानों में आक्रोश है।बबीना दहगांव नाले से सूखमपुर कंचौसी गांव नाला और हीरानगर का नाला भी जुडा है इन नालों का बरसाती पानी भी दहगांव नाला होकर नदी में जाता है .विभाग द्वारा कई सालों से सफाई न होने नाला जाम होने से पानी का निकास नही हो पाता है। जिससे हर साल इलाके के किसानों की सैकडों एकड धान की फसल बाढ में डूब कर नष्ट हो जाती है जबकि जेसीबी मशीन से नाले की सफाई कराने वाले ठेकेदार ने जगह बेजगह नाले में ऊगी घास झाडी खरपतबार,बबूल आदि नाले से नही हटाया है और न ही सायफन साफ किया जिससे मिट्टी जाम है।किसानो ने बताया बाढ की समस्या से सालों से कंचौसी बाजार ,ढिकियापुर ,कंचौसी गांव, हीरानगर रोशनपुर ,मोहनपुर बिहारीपुर शाहपुर आदि की सैकडों एकड धान की फसल डूब जाती है और कंचौसी बाजार में पिछले बर्ष बाढ से कई मकानों में पानी घुसने से लोगों ने मकान खाली कर दिए थे .फिर भी इन नालों की सफाई प्रशासन सही ढग से कभी नही कराता है यदि सफाई कऱाई भी गई खानापूरी कर कागजों पर काम पूरा कर दिया जाता है।नत्थू सिंह, अरविन्द कुमार, रविन्द्र कुमार, सूरज नाथ आदि किसानों ने जिलाधिकारी से बरसात के पहले पूरे नाले की सफाई बिधिवत कराने की मांग की है जिससे बाढ़ से धान की फसल को नुकसान न हो.