औरैया (दीपक कुमार पाण्डेय )आजादी से पहले की कलेक्टरी सड़क का अभी तक नही हुआ निर्माण।

कंचौसी दिबियापुर के बीच तीन किलोमीटर हिस्से को पक्का कराने से सालो पहले दिया गया छोड।

 

 

स्वतंत्रता से पहले इटावा जिला मुख्यालय को जोड़ने के लिए रेलवे लाइन व इटावा निचली नहर के बीच 75 किलोमीटर लम्बी 7 मी चौडी रोड बनाने के लिए अंग्रेजी हुकूमत मे जगह को चिन्हित कर सरकारी अभिलेखो मे छोडा गया है।जिसके कुछ हिस्से को दोनो जिलो की सीमा मे जरूरत के अनुसार शासन व जनप्रतिनिधियो ने पक्का कराकर पहले से आवागमन चालू करा दिया है लेकिन दिबियापुर से कंचौसी के बीच सुखमपुर रेलवे क्रासिंग से कंचौसी मुख्य बाजार व रेलवे स्टेशन तक 3 किलोमीटर नौगवां गांव पंचायत की सीमा मे आज तक निर्माण न होने से कच्चा छोड दिया गया है जिस पर बडी संख्या मे झाड़ी पतार खड़ी होने के कारण पैदल निकलना मुश्किल है जिससे सूखमपुर,घसा का पुरवा, बिझाई,पुरवा महिपाल गाव के साथ कंचौसी के किसान व आम लोग जरूरी कार्यो के लिये आते जाते है जिनको काफी परेशानी होती है जिसके निमार्ण कराये जाने के लिए आम लोगो ने अधिकारियो के साथ साथ पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष दीपू सिंह व जिलाधिकारी से कई बार इस कलेक्टरी रोड के छूटे हिस्से को पक्का कराकर जिले की सीमा से कंचौसी दिबियापुर के बीच आवागमन सुचारू बनाने की मांग नगर के कंचौसी संघर्ष समिति के अध्यक्ष ताराचंद पोरवाल, डॉ सुभाष गुप्ता, बबलू पंडित, मझले पंडित, गिरीश सिकरवार,राहुल तिवारी ,विनोद कुमार, प्रवीन गौर, आशाराम राठौर आदि लोगो ने जिला के वरिष्ठ आधिकारियो , जन प्रतिनिधियो से शीघ्र निर्माण करवाये जाने की मांग की ।