कानपुर देहात, जिलाधिकारी डा0 दिनेश चन्द्र ने ईको पार्क सामुदायिक भवन में सब मिशन आन एग्रीकल्चरल एक्स्टेंशन (आत्मा) योजना के तहत जनपदीय रबी उत्पादकता गोष्ठी/मेला का फीता काटकर व दीप प्रज्जवलित कर शुभारंभ किया। इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी सौम्या पाण्डेय, बुजुर्ग किसान बालक राम, रशीद अहमद, महिला किसान आशा देवी ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। गोष्ठी में जिलाधिकारी व मुख्य विकास अधिकारी ने विभिन्न विभागों द्वारा लगाये गये लगभग तीन दर्जन कृषि यंत्र, बीज व अन्य कृषि विभाग से जुड़ी जानकारियों को लेकर लगाये गये स्टालों का अवलोकन किया तथा उनके बारे में जानकारी दी तथा अवलोकन के दौरान उपस्थित किसान भाईयों को जिलाधिकारी ने कई प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारी दी। इसी कड़ी में प्रगतिशील कृषक सब्जियों के जरिए आंगनबाडी द्वारा पोषण मिशन कार्यक्रम के तहत तैयार की गयी रंगोली का अवलोकन कर महिलाओं को पुरस्कृत भी किया।कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि गोष्ठियां प्रतिवर्ष आयोजित होती है कोई भी कार्यशाला निरर्थक नही जाती है गोष्ठियां कुछ न कुछ देकर जाती है। उन्होंने कहा कि अमराहट योजना के तहत मा0 मुख्यमंत्री जी ने एक पत्र मंगाया है कि कितनी धनराशि दी जानी है यह परियोजना लगभग दस वर्षो से विलंब से चल रही है। मा0 मुख्यमंत्री जी के आशीर्वाद से यह परियोजना कुछ ही दिनों बाद चालू हो सकेगी। जिससे 122 गांवों के किसानों को सिचांई का साधन संभव हो सकेगा। उन्होने कहा कि कृषि के क्षेत्र में उर्वरकों की कमी नही होने पायी है तथा कुछ ऐसी समितियां जो अक्रियाशील पुखरायां क्षेत्र में थी जिनकों क्रियाशील बनाया है। जनपद में बीज, उवर्रक की कोई कमी नही है। उन्होंने जिला खाद्य विपणन अधिकारी को निर्देशित किया है कि सभी धान क्रय केन्द्रों में छोटे किसानों का धान पहले खरीदे तथा किसानों को किसी भी प्रकार की कोई समस्या नही होनी चाहिए। सभी धान क्रय केन्द्रों के लिए नोडल अधिकारी को नामित किया है वह भ्रमण कर व्यवस्थायें देंखेगे तथा कही किसी भी प्रकार की गड़बडी न होने पाये। उन्होंने सिंचाई विभाग, नलकूप विभाग, उद्यान विभाग, कृषि विभाग, पशु चिकित्सा विभाग आदि संबंधित विभागों के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि नहरों की साफ सफाई रहे तथा जनपद में सभी नलकूप ठीक रहे किसानों को सिंचाई में कोई परेशानी नही होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी को हरी सब्जियां, फल, आंवला, मूली, टमाटर, मिर्च, पालक, बैंगन आदि सभी का सेवन करना चाहिए तथा हल्दी युक्त दूध थकान होने पर पीना चाहिए इससे शरीर में ताकत व कमजोरी नही होती है। उन्होंने सभी को तालियां भी बजवाई तथा उसके फायदे भी बताये। उन्होंने सभी को हंसाते हुए कहा कि सभी को समय समय पर हंसना भी चाहिए इससे ऊर्जा मिलती है और बीमारी नही आती है।