सिरौलीगौसपुर बाराबंकी(अजय रावत) । सिंचाई विभाग बाढ खंण्ड बाराबंकी द्वारा अलीनगर रानीमऊ तटबांध के भीतर ग्राम समूह कहारनपुरवा गोबरहा तेलवारी तीन परियोजनाओं पर चल रहे गैवीयान कटर परक्यू पाइन कार्य अन्तिम पायदान पर प्रदेश के सिंचाई एंव जल शक्ति मन्त्री की सख्ती आयी काम एक दो दिनों में पूर्ण करा लिए जायेंगे बाढ निरोधक सुरक्षात्मक अनुरक्षण कार्य।

बताते चलें कि अलीनगर रानीमऊ तटबांध के भीतर सरयू नदी की दांती पर बसे गोबरहा तेलवारी कहारनपुरवा तीन ग्राम समूहों पर 11करोड रुपये की तीनों परियोजनाओं पर नई ईसी बोरियों में आरबीएम भरकर नायलन की रस्सियों मे नदी में बोरिंया डलवा कर गैवीयान कटर और उसके ऊपर तीन लाईनों में तिगोडिया नुमा सीमेंटेड खम्भों में झांखड भरवा कर नदी के पानी को बीच धारा की ओर मोड़ने के कार्य सहायक अभियंता राकेश भास्कर अवर अभियंता अंकित सिंह धनंजय तिवारी घनश्याम मिश्रा राहुल नरायन की देख रेख में रात दिन की दो सिफ्टों में तेजी के साथ करवाये जा रहे 97% से अधिक बचाव राहत कार्य पूर्ण कर लेने के बाद अधिकारियों ने राहत की सांस ली है शेष काम जो कटर बनाये गये हैं नदी के नीचे से ऊपर दांती के पास तक बनवा लिये गये हैं दो तीन प्रतिशत कार्य जो अभी होना है वह ऊपरी भाग नदी की दांती पर बोरियां लगनी है वह काम अब यदि नदी का पानी बढ भी जाय तब भी काम प्रभावित नही होगा । विगत माह जल शक्ती मंन्त्री डाक्टर महेंन्द्र सिंह के निरीक्षण के दौरान बाढ खंण्ड के अभियंताओं को दी गई चेतावनी काम आयी एक दो दिनों मे तीनों परियोजनाओं पर काम पूर्ण करा लिया जायेगा ।
काम पूर्ण होने के पीछे एक बात यह भी मुख्य है कि इस बार शासन ने माह फरवरी मे ही तीनों परियोजनाओं का शिलान्यास करके बजट बिभाग को मुहैय्या करा दिया है। विगत वर्ष स्परो के निर्माण में 15 मई को बजट दिया गया फिर उसके बाद स्परों के निर्माण में किसानों की पडने वाली जमीनों की रजिस्ट्री और मुवाबजा दिये जाने मे ही महीनों लग गये थे और जब स्परों के निर्माण के कार्य तेजी के साथ रात दिन की दो सिफ्टों में करवाये ही जा रहे थे कि तभी बाढ आ गयी काम ठप्प हो गये किंतु इस बार जैसे काम शुरू होंने लायक हुआ तेजी के साथ बांध बनवा कर उसी पर तुरन्त बोल्डर पिचिंग कराकर डेढ दो माह पूर्व ही स्परो के निर्माण कार्य पूर्ण कर लिये गये ठीक उसी प्रकार तीनों परियोजनाओं पर सहायक अभियंता राकेश भास्कर की देखरेख में सनांवा के पास स्थित कैम्प कार्यालय पर रुककर रात दिन की दो सिफ्टों में तेजी के साथ काम करवाने की परिणति काम पूर्ण होने की कगार पर पहुंच गए हैं।