कानपुर देहात

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अकबरपुर के नेत्र परीक्षण अधिकारी के कारनामों ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी कानपुर देहात की कार्यप्रणाली पर लगाए सवालिया निशान*

*गरीबों को बांटने के लिए उपरोक्त समिति द्वारा उपलब्ध कराए जा रहे चश्मे बेचकर नेत्र परीक्षण अधिकारी उमेश पाल द्वारा मनाई जा रही है नियमित पिकनिक*

*पूरी हकीकत की जानकारी होने के बाद उपरोक्त नेत्र परीक्षण अधिकारी के विरुद्ध कार्यवाही करने से कन्नी काट रहे हैं जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी*

*सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अकबरपुर के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर आईएच खान द्वारा उपरोक्त लापरवाह नेत्र परीक्षण अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही किए जाने के लिए पहले से ही की जा चुकी है लिखा पढ़ी*

*सोशल मीडिया पर उपरोक्त लापरवाह नेत्र परीक्षण अधिकारी उमेश पाल भ्रष्टाचार को सिद्ध करने वाले वायरल ऑडियो पर भी खबर लिखे जाने तक उपरोक्त लापरवाह नेत्र परीक्षण अधिकारी पर नहीं हो सकी है कोईविधिक कार्यवाही*

 

शुक्रवार कोसामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अकबरपुर के नेत्र परीक्षण अधिकारी उमेश पाल के कारनामों से संबंधित एक ऑडियो सोशल मीडिया पर हुआ वायरल उपरोक्त ऑडियो के द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अकबरपुर के नेत्र परीक्षण अधिकारी द्वारा जनपद के ग्रामीण अंचलों में रहने वाले जरूरतमंद लोगों के लिए शासकीय धन खर्च करके जनपद के जिला अधिकारी की अध्यक्षता में काम कर रहीदृष्टि हीनता निवारण समिति द्वारा पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराए जाने वाले चश्मा तथा अन्य आवश्यक चिकित्सीय सामान की बिक्री करके अपने जेब का खर्चा चलाए जाने की स्वयं नेत्र परीक्षण अधिकारी द्वारा उल्टी किए जाने के बाद भी जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी उपरोक्त नेत्र परीक्षण अधिकारी के विरुद्ध कार्यवाही करना तो दूर रहा खबर लिखे जाने तकजांच कराए जाने तक का साहस नहीं जुटा पाए
हिंदी दैनिक डे टुडे इंडिया द्वारा दूरभाष के माध्यम से जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ राजेश कटियार से उपरोक्त संबंध में वार्ता करने पर उन्होंने उपरोक्त प्रकरण की जानकारी ना होने की बात कह कर पूरे सवालों का जवाब देने से यह कहते हुए किनारा काट लिया की मामले की जानकारी की जा रही है अगर उपरोक्त मामला सही है तो कार्यवाही की जाएगी जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी के उपरोक्त जवाब देने से कई घंटे पहले उपरोक्त संबंध का एक ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका था अब सवाल यह उठता है कि जब लगभग पूरे जनपद मैं उपरोक्त नेत्र परीक्षण अधिकारी के घटिया किस्म के उपरोक्त कार्य की चर्चाएं चरम पर थी तब जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी अपनी सीएससी अकबरपुर में तैनात नेत्र परीक्षण अधिकारी उमेश पाल के उपरोक्त कार्य प्रणाली से अपने आप को अनजान बता कर उपरोक्त संबंध में कुछ कहने से बड़ी होशियारी के साथ किनारा कर गए

भरोसेमंद सूत्रों के मुताबिक उत्तर प्रदेश शासन के निर्देशों के मुताबिक जनपद के जिला अधिकारी की अध्यक्षता में जनपद में एक दृष्टि हीनता निवारण समिति कार्य कर रही है इस समिति के द्वारा जनपद में रहने वाले ग्रामीण अंचल के लोगों के नेत्रों के ऑपरेशन तथा जरूरतमंदों को चश्मा तथा अन्य आवश्यक दवाएं शासकीय धन खर्च करके उपलब्ध कराए जाने का प्रावधान हैसामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अकबरपुर के माध्यम से उपरोक्त समिति द्वारा जरूरतमंद लोगों को निशुल्क आंखों के ऑपरेशन तथा जरूरतमंद लोगों को चश्मे तथा आवश्यक दवाएं शासकीय धन खर्च करके उपलब्ध कराई जाती है उपरोक्त समिति द्वारा कानपुर नगर स्थित एक फर्म से चश्मा ₹230 प्रति चश्मा के हिसाब से खरीद करके जरूरतमंदों को निशुल्क उपलब्ध कराने के लिए दिए जाते हैं उपरोक्त समिति द्वारा शासन की मंशा के अनुरूप दृष्टि ही नता के निवारण के लिए जरूरतमंदों को शासकीय खर्च पर आवश्यक सुविधाएं चाहे भले ही अपनेकागजी लिखा पढ़ी में उपलब्ध कराई जा रही हो लेकिन हकीकत यह है कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अकबरपुर में तैनात नेत्र परीक्षण अधिकारी द्वारा जरूरतमंदों को उपलब्ध कराए जाने के लिए आने वाले विभिन्न नंबरों के चश्मे बेचकर उपरोक्त समिति द्वारा खर्च किए जा रहे शासकीय धन को अपने जेब खर्चे का सर्वोत्तम साधन बना लिया है जिसकी पुष्टि शुक्रवार को सोशल मीडिया पर वायरल एक ऑडियो के माध्यम से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के नेत्र परीक्षण अधिकारी द्वारा स्वयं की जा रही है इतना सब कुछ होने के बाद भी उपरोक्त मामले को शुक्रवार को खबर लिखे जाने तक किसी अधिकारी द्वारा संज्ञान में ना लिए जाने की जानकारी प्राप्त हुई है वही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अकबरपुर के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर आईएच खान ने बताया कि उपरोक्त नेत्र परीक्षण अधिकारी की कार्यप्रणाली से वह स्वयं संतुष्ट नहीं है उपरोक्त नेत्र परीक्षण अधिकारी के विरुद्ध कार्यवाही किए जाने के लिए उन्होंने विभाग के उच्च अधिकारियों को पहले से ही सूचना दे रखी है उच्च अधिकारियों का आदेश मिलने पर वह उपरोक्त नेत्र परीक्षण अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए तैयार बैठे हैं वही स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग के अपर निदेशक चिकित्सा कानपुर मंडल डॉ जी के मिश्रा ने हिंदी दैनिक डे टुडे इंडियाइंडिया को शुक्रवार कोदूरभाष पर बताया कि उपरोक्त प्रकरण की जानकारी उन्हें भी मिली है आवश्यक कार्यवाही के लिए जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को आदेश निर्गत किए जा रहे हैं
अब यहदेखना है कि अब उपरोक्त मामले में कौन क्या कार्यवाही करता है इस सवाल का जवाब पानेके लिए सबकी नजरें सक्षम अधिकारियों द्वारा उपरोक्त मामले में निष्पक्ष कार्यवाही के नाम पर आने वाले परिणाम की इंतजारी कर रही है