देवा, बाराबंकी( सहीर अहमद)।

देवां शरीफ तकारीब मेला कार्तिक
1 नम्बर 15 रबीउल अव्वल 1442 हिजरी मुताबिक 2 नवम्बर 2020 ई0 दिन सोमवार सह पहर को हजरत सैय्यद कुर्बान अली शाह रहमत के मजार पर चादर पेश होगी शब को आस्ताना ए अकदस पर महफिले मीलाद हुजूर सर वरे कायनात सल्लल्लाहु अलैहे वसल्लम होगी ।
2 नम्बर 16 रबीउल अव्वल 1442 हिजरी मुताबिक 3 नवम्बर 2020 ई0 दिन मंगल 10 बजे दिन को कव्वाली और शब को तरही मुशायरा होगा मिसरे तरहा मिला है आप के दामन का साइबा हम को
3 नम्बर 17 रबीउल अव्वल 1442 हिजरी मुताबिक 4 नवम्बर 2020 ई0 दिन बुध 10 बजे दिन को महफिले जिक्र मनाकिबे फजालय सरकार आलम नवाज हुजूर वारिसे पाक आजमल्लाहु जिक्र हु मुन अकिद होगी 8 बजे शब को बाद नमाज़े इशा हस्बे दस्तूर खास कव्वाली होगी और हजरत सैय्यद कुर्बान अली शाह का कुल होगा।
4 नम्बर 18 रबीउल अव्वल 1442 हिजरी मुताबिक 5 नवम्बर 2020 ई0 दिन जुमेरात सुबह को कव्वाली और हजरत सैय्यद खादिम अली शाह रहमत का कुल होगा सह पहर को सेहरा मिनजानिब बेदम शाह वारसी जूलूस के साथ पेश होगा शब को 11 बजे कव्वाली शुरू होगी जो रात भर जारी रहेगी
5 नम्बर 19 रबीउल अव्वल 1442 हिजरी मुताबिक 6 नवम्बर 2020 ई0 दिन जुमा सुबह को चार बजकर 13 मिनट पर सरकार आलम पनाह हाजी साहब आजमल्लाह जिक्र हु का कुल होगा 3 बजे सह पहर को मजार अकदस का गुस्ल होगा और मिनजानिब वक्फ वालदा मरहूमा अमीर अली खां साहब वारसी जगदीशपुर जिला आरा, मिनजानिब हाफिज प्यारी साहब वारसी गिलाफ मजार अकदस व सन्दल वगैरह पेश होगा शब को ट्रस्ट की जानिब से जुलूस के साथ एहराम पेश होगा उसके बाद गुलामाने वारसी का कुल होगा
6 नम्बर 20 रबीउल अव्वल 1442 हिजरी मुताबिक 7 नवम्बर 2020 ई0 दिन सनीचर मेहमानों को तब्बरूक तकसीम होगा और वह रूखसत होगें।