बाराबंकी(नितेश मिश्रा)। कोविड के चलते अस्पतालों में कई मरीज भर्ती किए जाते हैं उनमें से कई मरीज ऐसे भी होते हैं जिनकी मौत हो जाती है और उनकी मृत्यु के उपरांत उनकी बहुमूल्य वस्तुएं गायब किए जाने का मामला सामने आया है, जिसमें बाराबंकी पुलिस ने जांच कर अभियुक्तों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।
इसी मामले में मंदार पुराणिक निवासी विनीत खण्ड थाना गोमतीनगर जनपद लखनऊ ने थाना कोतवाली नगर बाराबंकी पर सूचना दिया कि वह अपनी पत्नी को कोविड-19 की इलाज हेतु मेयो हास्पिटल बाराबंकी में  भर्ती कराया था, जहां इलाज के दौरान उसकी पत्नी की मृत्यु हो गयी औऱ मेयो हास्पिटल से प्राप्त उनके सामान से उनका मोबाइल फोन नही मिला।
इसी तरह  लखनऊ निवासिनी एक महिला द्वारा ई-एफआईआर के माध्यम से सूचना दी गयी कि वह अपने पति को कोविड-19 के इलाज हेतु मेयो हास्पिटल बाराबंकी में भर्ती करायी थी, जहां इलाज के दौरान उनके पति की मृत्यु हो गयी औऱ मेयो हास्पिटल से प्राप्त उनके सामान में उनके पति का मोबाइल फोन नही मिला।
उक्त सूचना के आधार पर थाना कोतवाली नगर पर मु0अ0सं0-440/21 व मु0अ0सं0-436/21  धारा 379 भादवि पंजीकृत किया गया एवं पुलिस अधीक्षक बाराबंकी यमुना प्रसाद द्वारा घटना का अनावरण करने एवं अभियुक्तगण की गिरफ्तारी कर मोबाइल की बरामदगी हेतु अपर पुलिस अधीक्षक उत्तरी डॉ0 अवधेश सिंह के निर्देशन एवं क्षेत्राधिकारी नगर  सीमा यादव के पर्यवेक्षण में  प्रभारी सर्विलांस सेल एवं प्रभारी निरीक्षक कोतवाली नगर के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया और मैनुअल इंटेलिजेंस के आधार पर 02 अभियुक्तगण को गिरफ्तार किया गया तथा उनके कब्जे से चोरी किये गये 02 मोबाइल फोन बरामद किए गए।
अभियुक्तगण ने पूछताछ में बताया गया कि वह मेयो हॉस्पिटल में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी है। कोविड के ICU वार्ड में एडमिट होने वाले मरीज अपने परिजनों से बात करने के लिए मोबाइल को चार्जिंग पर लगाने के लिए दिये थे जिसको 1-2 बार उनलोगों ने चार्जिंग पर लगा दिया था। मरीज की मृत्यु हो जाने के पश्चात मृतकों का अन्य सामान परिजनों को वापस कर दिया था परन्तु उनका मोबाइल फोन चोरी करके अपने पास रख लिया था और अपने साथ घर लेकर चले गए।
पुलिस अधीक्षक ने जानकारी देते हुए बताया कि अभियुक्तो को गिरफ्तार कर चोरी किये गए फ़ोन भी बरामद कर लिए है एवम अभियुक्तो के विरुद्ध विधिक कार्यवाही की जा रही है।