औरैया (दीपक कुमार पाण्डेय) बिना मास्क के ट्रेनों से यात्रा कर रहे हैं यात्री।

 

 

कोरोना संक्रमण से बचने को रेलवे पूरी एहतियात बरत रहा है। स्टेशन पर थर्मल स्क्रीनिंग और मास्क पहनने के बाद ही यात्रियों को प्रवेश दिया जा रहा है, लेकिन ट्रेन के अंदर यात्री लापरवाही बरत रहे हैं। ट्रेन में सफर करने वाले अधिकांश यात्री मास्क नहीं पहन रहे। शारीरिक दूरी का भी पालन नहीं हो रहा है। मंगलवार को कंचौसी रेलवे स्टेशन पर टुंडला से कानपुर जाने वाले पैसेंजर ट्रेन में कुछ ऐसा ही नजारा था। ये केवल एक ट्रेन की स्थिति नहीं है, बल्कि अधिकांश ट्रेनों में यात्री कोरोना संक्रमण के प्रति लापरवाह हैं।कोरोना से हजारों लोगों की मौत हो चुकी है। हर दिन हजारों नए मामले सामने आ रहे हैं, लेकिन इसके बाद भी यात्री सबक नहीं ले रहे हैं। सरकार ने ट्रेन में यात्रा के लिए गाइडलाइन तय की है। ट्रेन में शारीरिक दूरी का पालन हो और बिना मास्क के यात्रा करने वाले यात्रियों को 500 रुपए जुर्माना भी लगाने का आदेश दिया है।यात्रियों को कोरोना का भय तो नही है लेकिन जुर्माना का भय भी नही है।ट्रेन में केवल उतने ही यात्रियों को यात्रा की अनुमति है। सबको यात्रा के दौरान मास्क लगाना है, लेकिन यात्री हैं कि इन नियमों को मानने को तैयार ही नहीं है। यात्रियों को निर्धारित सीट पर ही बैठना है, लेकिन ट्रेन के अंदर सब आसपास बैठे हुए थे। अधिकांश के चेहरे पर मास्क नहीं था।स्टेशन अधीक्षक विशम्बर दयाल पांडेय ने बताया बिना मास्क के यात्रा करने वाले यात्रियों से जुर्माना वसूला जाएगा औऱ यात्रियों को बिना मास्क के रेलवे स्टेशन पर नही आने दिया जाएगा।