काबुल
अफगानिस्तान के मानवाधिकार आयोग ने सेना की ओर से देश के पूर्वोत्तर प्रांत ताखर में किए गए हवाई हमले में 12 बच्चों के मारे जाने की पुष्टि की है। अफगानिस्तान में अमेरिका के विशेष प्रतिनिधि जालमय खलीलजाद ने ट्विटर पर यह जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट किया, यह एक भयावह हादसा है। दुर्भाग्यपूर्ण रूप से यह हादसा केवल ताखर प्रांत तक ही सीमित नहीं है बल्कि देश में तालिबान आम नागरिकों को निशाना बनाकर कार बम धमाके, आईईडी और अन्य हमले करता है। अफगानिस्तान के लश्कर गाह और अन्य क्षेत्रों से आम नागरिकों को मजबूर होकर अपना घर छोड़ना पड़ा है। हम इस हादसे में मारे गए लोगों और घायलों के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हैं। अमेरिकी प्रतिनिधि ने कहा कि अफगान सरकार और तालिबान के बीच जल्द से जल्द शांति बहाल करने के लिए अमेरिका हर संभव प्रयास कर रहा है। दोनों पक्षों के बीच कतर की राजधानी दोहा में शांति वार्ता चल रही है।
वहीं दूसरी ओर राजधानी काबुल में एक शैक्षणिक केंद्र के निकट हुए आत्मघाती बम धमाके में 30 लोगों की मौत हो गई और 70 से ज्यादा घायल हो गए। अफगानिस्तान के नेशनल डायरेक्टरेट ऑफ सिक्योरिटी के अनुसार, हमलावर शिक्षण संस्थान में प्रवेश करने की कोशिश कर रहा था। इस घटना की जिम्मेदारी आतंकी संगठन आईएसआईएस ने ली है। इसके पहले तालिबान ने इस घटना में किसी भी सहभागिता से इनकार किया था।