बाराबंकी(रामानंद गुप्ता)। जनपद में त्रिस्तरीय पंचायत सामान्य निर्वाचन 2021 में लगे छूटे मतदान कार्मिकों के प्रशिक्षण जीआईसी आडीटोरियम बाराबंकी में प्रातः 10 बजे से अपरान्ह 1 बजे तक तथा अपरान्ह 2 बजे सायं 5 बजे तक अंतिम दिवस के प्रशिक्षण में कार्मिकों को प्रशिक्षण आयोजित किया गया। प्रशिक्षण के दौरान मतदान कार्मिकों को मतदान प्रक्रिया के बारे में विस्तृत जानकारी मास्टर ट्रेनरों द्वारा दी गयी। प्रशिक्षण के दौरान स्पिलिट बूथ क्या है? के बारे में गहनता से बताया गया कि जब किसी मतदेय स्थल पर एक ही पद के लिए दो या दो से अधिक वार्डों का निर्वाचन हो रहा हो तो उसे स्पिलिट बूथ कहते हैं। इस प्रकार के बूथ में संबंधित मतदाता को संबधित वार्ड का मतपत्र देना होता है। जिन मतपत्रों का प्रयोग मतदान में कर रहे हैं उसके पीछे सुभिन्नक चिह्न की मोहर लगा कर प्रविष्टयों को भरना व पीठासीन के हस्ताक्षर होना अति आवश्यक होता है। उन्होंने बताया कि मतपत्र लेखा सभी पदों के लिए अलग-अलग बनेगा। यदि किसी मतदेय स्थल पर एक से अधिक वार्डों का निर्वाचन हुआ है, तो इन वार्डों का भी मतपत्र लेखा बनाना होगा।

जनपद में त्रिस्तरीय पंचायत सामान्य निर्वाचन -2021 को सकुशल सम्पन्न कराने हेतु लगाये गये पीठासीन अधिकारी , मतदान अधिकारी – प्रथम , मतदान अधिकारी – द्वितीय , मतदान अधिकारी – तृतीय का प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रथम पाली में 114 कार्मिक अनुपस्थित रहे । इसी प्रकार द्वितीय पाली समय 2.00 बजे से 5.00 बजे तक आयोजित प्रशिक्षण में 58 कार्मिक अनुपस्थित रहे । इस प्रकार दोनों पालियों में कुल 172 कार्मिक प्रशिक्षण गायब/अनुपस्थित रहें , जिसपर मुख्य विकास अधिकारी/ प्रभारी अधिकारी ( प्रशिक्षण ) द्वारा रोष प्रकट करते हुए अनुपस्थित कार्मिकों के विरूद्व निहित प्राविधानों के अन्तर्गत कार्यवाही हेतु विभागाध्यक्ष को सूची प्रेषित कर निर्देशित किया गया है । साथ ही यह भी निर्देश दिये गये कि यदि अनुपस्थिति के सम्बन्ध में कोई विभागाध्यक्ष द्वारा कोई उचित कारण प्रस्तुत नहीं नहीं किया जाता है तो सम्बन्धित कार्मिक के विरूद्व सुसंगत धाराओं में प्राथमिकी दर्ज कराकर कार्यवाही की जायेगी । सर्वप्रथम जीआई सी ऑडीटोरियम में विस्तृत प्रशिक्षण के उपरान्त जी जीआईसी के कमरों में मतदान कार्मिकों को भेजकर मास्टर ट्रेनरों के माध्यम से प्रशिक्षित कराया गया। जिससे पूरी मतदान प्रकिया के बारे में उन्हें विस्तृत जानकारी हो सके

प्रशिक्षण आशीष पाठक द्वारा दिया गया। इस दौरान परियोजना निदेशक भोलानाथ कनौजिया, जिला विकास अधिकारी अजय कुमार पांडेय सहित सम्बन्धित अधिकारीगण मौजूद रहे।