बाराबंकी( योगेश जायसवाल)। आगामी त्रिस्तरीय पंचायत सामान्य निर्वाचन-2021 सकुशल, निष्पक्ष, निर्विघ्न एवं शान्तिपूर्ण सम्पन्न कराने हेतु मतदान कार्मिकों का प्रशिक्षण सहित सभी कार्य राज्य निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुरूप सम्पन्न कराना सुनिश्चित करें। प्रशिक्षण जीआईसी आॅडीटोरियम बाराबंकी जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी(पंचायत एवं नगरीय निकाय) डाॅ0आदर्श सिंह की अध्यक्षता में आयोजित किया गया। प्रशिक्षण के दौरान जिला मजिस्ट्रेट ने बताया गया कि यहाॅ पर उपस्थित प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे मतदान कार्मिक द्वारा परिस्थिति कोई भी रहे मतदान शान्तिपूर्वक प्रत्येक दशा में सम्पन्न कराना है। जिला मजिस्ट्रेट ने 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों से अपील की कि कोविड-19 वैक्सीन जल्दी लगवा ले।
जनपद-बाराबंकी में त्रिस्तरीय पंचायत सामान्य निर्वाचन-2021 को सकुशल सम्पन्न कराने हेतु लगाये गये पीठासीन अधिकारी, मतदान अधिकारी-प्रथम, मतदान अधिकारी-द्वितीय, मतदान अधिकारी-तृतीय का प्रशिक्षण आयोजित किया गया, जिसमें प्रथम पाली में पार्टी संख्या 901 से 1350 तक (1800 कार्मिक) द्वारा प्रािक्षण प्राप्त किया जाना था जिसमें कुल 108 कार्मिक अनुपस्थित रहे।

इसी प्रकार द्वितीय पाली समय 2.00 बजेसे 5.00 बजे तक आयोजित प्रशिक्षण में पार्टी संख्या 1351 से 1800 (1800 कार्मिकों) के प्रशिक्षण में कुल 101कार्मिक अनुपस्थित रहें। इस प्रकार दोनों पालियों में कुल 209 कार्मिक प्रशिक्षण गायब/अनुपस्थित रहें, जिस पर जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा असंतोष प्रकट करते हुए अनुपस्थित कार्मिकों के विरूद्व निहित प्राविधानों के अन्तर्गत कार्यवाही हेतु विभागाध्यक्ष को सूची पे्रषित कर निर्देशित किया गया है। साथ ही यह भी निर्देश दिये गये कि यदि अनुपस्थिति के सम्बन्ध में संबंधित द्वारा कोई उचित कारण प्रस्तुत नहीं किया जाता है तो सम्बन्धित कार्मिक के विरूद्व सुसंगत धाराओं में प्राथमिकी दर्ज कराकर कार्यवाही की जायेगी।

जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ आदर्श सिंह ने निर्वाचन प्रक्रिया के तहत मतदान में पीठासीन अधिकारी एवं मतदान अधिकारियों की अहम भूमिका बताते हुए कहा कि सभी मतदान कार्मिक टीम भावना से कुशलता पूर्वक मतदान सम्पन्न करायें। जिलाधिकारी ने समस्त पीठासीन एवं मतदान अधिकारियों से कहा कि मतदान प्रक्रिया के दौरान ऐसा कोई कार्य या आचरण न करें जिससे उनकी सत्यनिष्ठा पर उंगली उठ सके। जिलाधिकारी ने पीठासीन एवं मतदान अधिकारियों को हिदायत दी कि वे मतदान की सभी प्रक्रियाओं के संबंध में राज्य निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देशों को भलीभांति पढ लें और मतदान दिवस पर अक्षरसः अमल सुनिश्चित करें। उन्होंने मतदान की गोपनीयता बनाये रखने पर जोर दिया।

प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान मास्टर ट्रेनरों ने मतदान से पूर्व, मतदान के समय तथा मतदान सम्पन्न होने के बाद आवश्यक प्रक्रियाओं के बारे में पीठासीन अधिकारियों को बिन्दुवार जानकारी दी। पीठासीन एवं मतदान अधिकारियों को मतदान दिवस पर मतदेय स्थल पर पोलिंग एजेंट की तैनाती करने, मतदान के लिये बैलेट बाॅक्स तैयार करने, निर्धारित समय पर मतदान शुरू कराने के अलावा मतदान से संबंधित जरूरी कार्यकलापों एवं अभिलखांे को भरने के संबंध में बारीकी से जानकारी दी गई। इस मौके पर पीठासीन अधिकारियों को मतदान के लिये बैलेट बाॅक्स तैयार करने, मतदान कराने सहित बैलेट बाॅैक्स को सील करने जैसी जरूरी प्रक्रियाओं का रिहर्सल कराया। अधिकारियों ने कार्यक्रम के दौरान पीठासीन अधिकारियों की शंकाओं का मौके पर समाधान किया। प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान पीठासीन एवं मतदान अधिकारियों को मतदान प्रक्रिया एवं मतदान कार्मिकों के महत्वपूर्ण कार्यकलापों एवं कर्तव्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गयी।
मुख्य विकास अधिकारी ने प्रशिक्षण के दौरान बताया कि प्रशिक्षण निर्वाचन प्रक्रिया का मुख्य अंग होता है। एक गुणवत्तापूर्ण लिया गया प्रशिक्षण निर्वाचन प्रक्रिया को सरल बनाता है। उन्होंने कहा कि सभी को स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं पारदर्शी पूर्वक चुनाव कराना होगा। ऐसा कार्य करें जिससे लोगों में विश्वास पैदा हो कि पंचायत चुनाव बहुत ही चुनौतीपूर्ण है। मतदान केन्द्र पर सभी मतदान कर्मी 2 घण्टे पूर्व से मतदान केन्द्र में सभी व्यवस्थाओं को दुरूस्त कर ले, उसमें मतदान प्रारम्भ होने से पहले अपनी सामग्री तथा मतदाता सूची मिलान अवश्य कर ले।

प्रशिक्षण का संचालन आशीष पाठक ने किया। प्रशिक्षण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी श्रीमती एकता सिंह, परियोजना निदेशक भोलानाथ कनौजिया, जिला विकास अधिकारी अजय कुमार पाण्डेय, जिला प्रशिक्षण अधिकारी श्रीमती गरिमा सिंह, अपर जिला सूचनाधिकारी आरती वर्मा सहित सम्बन्धित विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।