औरैया (दीपक कुमार पाण्डेय) बेरोजगारी से तंग आकर नव युवक से फंदा लगाकर दी जान।

 

 

स्वजनों व ग्रामीणों ने बताया कि आर्थिक तंगी के चलते कई महीनो से मानसिक रूप से था परेशान

 

 

पांच दिनों से घर से था लापता।स्वजनों ने दिबियापुर थाने में दर्ज करवाई थी गुमसुदगी की रिपोर्ट।

 

 

ग्रामीणों के अनुसार नव युवक बहुत ही होनहार छात्र था।परिवार की माली हालत खराब होने से पढ़ाई बीच मे पढ़ी थी छोड़नी।

दिबियापुर थाना क्षेत्र के दोही गांव निवासी युवक गजेंद्र उर्फ सोनू पुत्र सर्वेश संखवार ने गांव से एक किलोमीटर दूर जंगलों से निकली हाइटेंसन लाइन के खम्भे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। स्वजनों के अनुसार युवक पांच अप्रैल को लगभग सुबह साढ़े आठ बजे घर से कंचौसी जाने के लिए निकला था फिर शाम तक वापस नही आया काफी खोजबीन के बाद भी जब युवक सोनू का कोई सुराग नही लगा तब स्वजनों ने गुमशुदगी की प्राथिमिकी दिबियापुर थाने में दर्ज करवाई थी।शुक्रवार सुबह जब ग्रामीण गेंहू काटने के लिए खेतो गए तो गेंहू काटते वक्त उनको बदबू आने लगी तो ग्रामीणों ने जंगल के अंदर जाकर देखा तो हाइटेंसन लाइन के पाइप पर गजेन्द्र उर्फ सोनू पुत्र सर्वेश संखवार उम्र 20 वर्ष का शव लटका हुआ था।जिसकी ग्रामीणों ने स्वजनों को सूचना दी।ग्रामीणों के मुताबिक मृतक पांच भाई बहनों में सबसे बड़ा था और पढ़ाई में बहुत ही होशियार छात्र था परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण पढ़ाई बीच में ही छूट गई थी जिस कारण मृतक युवक कई माह से काफी परेशान था और रोजगार की तलाश में भटक रहा था जब रोजगार नही मिला तो हताश हो नवयुवक ने फंदा लगाकर अपनी जीवन लीला ही समाप्त कर ली।सूचना पर चौकी इंचार्ज कंचौसी योगेंद्र सिंह अपने हमराही के साथ तत्काल मौके पहुंचे लेकिन घटनास्थल कानपुर देहात के मंगलपुर थाना क्षेत्र में था जिसकी सूचना चौकी इंचार्ज द्वारा मंगलपुर थाना पुलिस को दी गई।मंगलपुर थाने के एस एस आई राजेश यादव फोर्स व फोरेंसिक टीम के साथ मौके पर पहुंचे और युवक का शव खम्भे से उतरवाकर पोस्टमार्टम के लिये माती भिजवाया।थाना प्रभारी मंगलपुर व चौकी इंचार्ज कंचौसी ने बताया कि मृतक की गुमशुदगी चार दिनों पूर्व दिबियापुर थाने में दर्ज की गई थी।उसके पास कोई सोसाइड नोट नही मिला है।मामला प्रथम दृष्टया आत्महत्या का प्रतीत हो रहा है।पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्पस्ट हो पायेगा।