भिण्ड। जिले में विगत एक सप्ताह से रोजाना अलग-अलग क्षेत्रों में किसानों के खेतों से गुजरे बिजली के तारों में अचानक चिंगारी या टूट जाने से कई किसानों की गेहूँ की फसल जलकर नष्ट हो रही है, उसके बाबजूद बिजली विभाग का अमला अपनी घोर निंद्रा में सोया हुआ है।
जानकारी के अनुसार आज दोपहर दो बजे के लगभग देहात थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्राम गढूपुरा में अन्नदाता सेवाराम यादव पुत्र लाखाराम यादव उम्र 65 वर्ष निवासी गढूपुरा की मेहनत बिजली विभाग की लापरवाही की भेंट चढ़ गई, बताया जा रहा है कि बिजली विभाग की तरफ से खेतों में बिजली के पोल लगाए गए हैं, और उन्हीं में अचानक शॉर्ट सर्किट हुई जिसकी वजह से गढूपुरा निवासी अन्नदाता किसान की तीन बीघा गेहूँ की फसल जलकर स्वाह हो गई, जिसकी सूचना स्थानीय लोगों ने तत्काल बिजली विभाग के आला अधिकारियों को दी, लेकिन किसी भी अधिकारी का फोन नहीं उठा, और न ही बिजली विभाग का कोई अधिकारी घटनास्थल पर पहुँचा। प्रमोद भदौरिया
*किसानों ने बिजली विभाग के अधिकारियों को बताया लापरवाह*
गढूपुरा के किसानों ने बिजली विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाए हैं, और बताया है कि यही पहली बार नहीं हुआ है, इससे पहले भी हमारे गाँव में आग लग चुकी है, लेकिन बिजली विभाग कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है, बिजली के तार पूरी तरह से ढीले हैं, और रोजाना उनमें स्पार्किंग होकर खेतों में तिलंगा गिर रहे हैं, लेकिन आज किसान सेवाराम यादव की गेहँू की तीन बीघा फसल पककर तैयार थी और वह गेहँू को काटने के लिए मजूरों को तलाश रहे थे, लेकिन उससे पहले ही बिजली विभाग की लापरवाही से हमारे खेत में खड़ी गेहूँ की फसल जलकर राख हो गई। प्रमोद भदौरिया
*विगत दिनों इन क्षेत्रों में लग चुकी है आग, जिसको किसानों ने स्वम् बुझाया है*
जिले में विगत दिनों पावई, पिडौरा, पुर, लहार क्षेत्र तथा आज गढूपुरा में आग लगने से किसानों के खेत में खड़ी गेहूँ की फसल में आग लग गई, लेकिन सच्चाई यह है कि तत्काल सूचना देने के बाद घटनास्थल पन तो फायर ब्रिगेड और ना ही बिजली विभाग का कोई नुमांइदा पहुँचता है, लेकिन किसान ही आपस में उस आग पर काबू पा लेते हैं।