देवां शरीफ बाराबंकी।

वारसी मिशन के पैगाम ए मोहब्बत के जरिए सारवभौमिकता की अलख जगाकर दूर दराज के हिन्दू मुस्लिम को एकता के सूत्र में बांधने वाले सैय्यद अरशद मुतुरजा वारसी ने सभी को तहे दिल से होली पर्व की मुबारकबाद पेश की है बता दें कि वर्षो पहले आध्यात्म के रास्ते चलकर कौमी एकता के प्रतीक देवां के सूफी संत हाजी वारिस अली शाह के पाकीजा कदमो में अपना तन मन समर्पित कर भैया जी ने देवां में काशान ए वारिस की स्थापना करके यहाँ सुदूर प्रांतो के सैकड़ों हिंदू मुस्लिम अकीदत मंदो को वारिस पाक के दामन से वाबस्ता किया। अरशद वारसी के मरकज में एक तरफ तो अल्लाह की इबादत के फूल बिखरते हैं तो दूसरी तरफ पूजा पाठ के माध्यम से भगवान के प्रतिश्रदधा के भाव पूरे मन से उजागर होते हैं यही नहीं बल्कि यहां से जुड़े विभिन्न जातियों के तमाम अहले मोहब्बा एक दूसरे के त्यौहारों के मौके पर यहां एकत्र होकर एक साथ आपस में त्यौहार की खुशियां बांटते हैं इसी क्रम में इस बार की होली पर भी यही परम्परा दोहराएं जाने की तैयारियां शबाब करने वालो मे मोहम्मद उमर, इकबाल हुसैन, सलमान शोएब, सुनील कुमार, ओझा सुदीप सिंह, सूरज सिंह, अमर वारसी, शशिभूषण श्रीवास्तव, छोटू आदि शामिल हैं।