भोगनीपुर कानपुर देहात बरो र थाना क्षेत्र के जलालपुर गांव से 28 वर्ष बीएससी का छात्र जो अपने बाप का इकलौता लड़का था 20 दिसंबर से घर से गायब है बूढ़ा बाप छोटे पुलिस अधिकारी ही नहीं उच्च अधिकारियों तक फरियाद लगा चुका है लेकिन किसी भी पुलिस अधिकारी ने उसकी फरियाद पर ना तो रिपोर्ट दर्ज कर रही है और ना ही लापता जवान लड़के की खोज की है बूढ़ा बाप दर-दर भटक रहा है उसके आंसू किसी भी अधिकारी है को दिखाई नहीं दे रहे हैं वही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हर फरियादियों की फरियाद सुनने के लिए रात दिन दावे कर रहे हैं लेकिन थाने में बैठे पुलिस कर्मचारी को उस बाप की आवाज सुनाई नहीं दे रही है मिली जानकारी के अनुसार बरो र थाना क्षेत्र के निवासी सेवानिवृत्त शिक्षक वीरेंद्र स्वरूप सचान ने बताया कि उसका लड़का सुनील लखनऊ में बीएससी में पढ़ता था बहुत होनहार छात्र था पढ़ाई में बहुत तेज था 20 दिसंबर को सुनील 28 वर्ष जलालपुर से अपने पिता वीरेंद्र स्वरूप सचान से बोला कि पिताजी हम लखनऊ जा रहे हैं लेकिन वह अपने ठिकाने पर नहीं पहुंचा जब दो दिन बाद लड़के सुनील से संपर्क नहीं हुआ तो पिता कई रिश्तेदारी व लखनऊ गया वह भी नहीं पता चला वीरेंद्र स्वरूप ने बताया कि लड़का सुनील ने बताया था कि पापा हमारे रिश्तेदार अमित सचान निवासी यशोदा नगर कानपुर वह पवन कुमार सचान निवासी गोपालपुर थाना घाटमपुर आए हैं और घूमने जाने के लिए कह रहे हैं उस फोन के बाद फिर सुनील कुमार से संपर्क नहीं हो पाया वीरेंद्र स्वरूप ने अमित कुमार निवासी कानपुर व पवन कुमार निवासी गोपालपुर घाटमपुर पर आरोप लगाते हुए बताया कि दोनों हमारे रिश्तेदार हैं हमारे पास 18 बीघा खेती है जिसकी कीमत लगभग ₹9000000 हैं सुनील ही एकमात्र वारिस था इसलिए अमित व पवन ने सुनील को रास्ते से हटा कर मेरी खेती हड़पने के लिए ही सुनील को गायब किया है पीड़ित वीरेंद्र स्वरूप सचान ने बताया कि हमें पूरी उम्मीद है कि हमारे लड़के सुनील को अमित व पवन ही गायब किए हुए हैं पुलिस प्रभारी निरीक्षक बरौर व एसपी कानपुर देहात आईजी तथा एडीजीपी कानपुर को भी आवेदन दे चुके हैं लेकिन अभी तक रिपोर्ट नहीं लिखी गई है पीड़ित बच्चे की फोटो लेकर अधिकारियों के यहां दर-दर भटक रहा है इतना ही नहीं पीड़ित बाप ने मुख्यमंत्री कार्यालय को भी फोन द्वारा घटना की जानकारी दिए हुए 3 दिन हो गए उस पर भी कोई कार्यवाही नहीं हुई है पीड़ित बाप का कहना है कि वह अब किसके पास अपनी फरियाल लेकर जाए फरियादियों की कोई सुनने वाला नहीं है