औरैया (दीपक कुमार पाण्डेय) हाइटेंसन लाइन बनी कस्बे के लोगो के लिए टेंसन।

 

 

 

कंचौसी नगर की आबादी के सिर पर चौबीस घंटे ‘मौत’ लटक रही है। हल्की चपेट भर से शरीर का खून चूस लेने वाले तीव्र करेंट के बीच लोग टेंशन में दिन गुजार रहे हैं। हाईटेंशन लाइन का यह टेंशन कभी भी वज्रपात के समान उन पर गिरने से नहीं चूकती। विभाग ने जैसे-तैसे इस टेंशन कम करने के उपाय किए हैं लेकिन वे नाकाफी साबित हो रहे हैं।कंचौसी उपकेंद्र व असेनी उपकेन्द्र से हाईटेंशन तारों का जाल किसी से छिपा नहीं है। हाईटेंशन तार कई स्थानों पर काफी नीचे तो कई जगह लोगों के घरों के ऊपर से गुजरा है। यह तो जांच का विषय है कि पहले हाईटेंशन लाइन खींची गई या फिर उसके नीचे घर बना। यदि यह मान लिया भी जाए कि पहले लाइन बनी और घर का निर्माण बाद में कराया गया, तो जब घर बन रहा था, उस वक्त संबंधित विभाग के अधिकारी कहां थे। ढिकियापुर ,पुरवा महिपाल , कंचौसी नगर समेत कई स्थानों पर घरों के कुछ ही ऊपर से गुजरे तार आबादी को डरा रहे हैं। नगर में कई मोहल्लों से होकर ये एचटी लाइनें निकल रही हैं। हाईटेंशन लाइनें तमाम मकानों से सिर्फ हाथ भर की दूरी पर हैं, इसका उदाहरण पुरवा महिपाल के कई मकान हैं जिनमें तेज करेंट बह रहा है। कई जगह यह तार काफी नीचे लटक गए हैं। अक्सर टूटकर गिरने से कई बार हादसे यहां हो चुके हैं।लेकिन विभाग द्वारा अभीतक पूरे कस्बे में कही जाल नही बिछाए गए हैं।