कानपुर। मोतीझील स्थित लाजपत भवन में शिव मोहन यादव की पुस्तक “सिंहों के अवतार तुम्हीं हो” का विमोचन अंतरराष्ट्रीय कवि कलीम कैसर समेत देश के प्रतिष्ठित कवियों ने किया। यह पुस्तक किशोरों के लिए प्रेरक कविताओं का संग्रह है।
कानपुर देहात के बरौर थाना क्षेत्र के नेरा कृपालपुर गांव निवासी युवा साहित्यकार शिव मोहन यादव की पुस्तक का विमोचन शनिवार को लाजपत भवन में अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में किया गया। अंतरराष्ट्रीय कवि शंभू शिखर ने कहा कि युवा बाल साहित्यकार की कलम देशप्रेम की भावनाओं से ओतप्रोत है। प्रतिष्ठित कवि मुकेश श्रीवास्तव ने कहा शिव मोहन यादव देश के युवा साहित्यकारों में सशक्त हस्ताक्षर हैं।‌ डॉ अजय अटल ने बताया कि उनका कविता लेखन युवाओं, किशोरों और बच्चों को प्रेरित करने वाला है। विमोचन में अंतरराष्ट्रीय कवि कमलेश राजहंस, हास्य कवि अखिलेश द्विवेदी, गीतकार डॉ अजय अटल, शायरा नुसरत अतीक, कवि मुकेश श्रीवास्तव, युवा कवि अभिषेक सहज, तिरंगा अगरबत्ती के एमडी नरेंद्र शर्मा ने अपने विचार रखे। रचनाकार शिव मोहन यादव ने बताया की पुस्तक 66 ‌ लयबद्ध रचनाओं का संग्रह है, जो बच्चों, किशोरों और युवाओं के लिए प्रेरक है। पुस्तक विमोचन के दौरान आल इंडिया चेस फेडरेशन के प्रेसिडेंट संजय कपूर, कवि विनय शंकर दीक्षित, कुमार सूरज, पंडित उपेंद्र पांडे, डॉ आनंद झा, बृजेंद्र यादव, सचिन श्रीवास्तव, रितेश राजपूत आदि उपस्थित रहे।
इनसेट
बाल साहित्यकार के रूप में है पहचान
युवा साहित्यकार शिव मोहन यादव को बच्चों के लेखक के रूप में पहचाना जाता है। उनकी किताब “लल्ला और बिट्टी” काफी चर्चित रही है। अभी तक उनकी कुल तीन पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। नई पुस्तक “उड़ने वाली कार” जल्द ही प्रकाशित होकर आएगी। उन्हें उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान, भाऊराव देवरस सेवा न्यास समेत कई संस्थानों से सम्मानित किया जा चुका है।