कानपुर देहात (अंकित तिवारी ) कानपूर देहात के मूसा नगर कस्बे में एक मंदिर जिसमे माता रानी एक दिन में धारण करती है तीन रूप देश प्रदेश में सुर्खियों में रहता है । मन्दिर कानपुर देहात के मूसानगर कस्बे के जमुना नदी के तट पहाड़ो पर स्तिथ मुक्तेश्वरी के नाम से जाना जाता है वही क्षेत्रीय लोगो की इस मंदिर में बड़ी आस्था है ।

बताया जाता है एक पिता ने अपनी बेटी के शादी कर रहे थे और बारात दरवाजे आ चुकी थी और पिता ने शादी से मना किया तो मुक्तेश्वरी लड़की ने अपनी तर्जनी उंगली काट कर खून बारात पर डाल दिया जिससे बारात पत्थर की हो गयी है और पिता के सर को काट दिया जिससे उसी दिन से लड़की मुकेश्वरी देवी के नाम से जाने लगी नवरात्रि में बड़ी धूम धाम से मेला लगता है हजारो लोग दर्शन करने आते है क्षेत्रीय लोग और भक्तों ने बताया कि देवी तीन रूप धारण करती है।

  • सुबह लड़की और दोपहर महिला और शाम वृद्ध महिला के रूप इस अनोखी प्रतिमा को लोग देखने के लिए आते है सैकड़ो वर्ष पुराना मंदिर किले नुमा आकर में जमुना नदी के पहाड़ो की चोटी में बसा है नवरात्रि के नौ दिन यन्हा हजारों की संख्या में श्रद्धालु आते है और कानपुर देहात की शान है मंदिर में पुजारी सुमित तिवारी ने बताया कि कोरोना गाइड लाइंस को लेकर इस बार कम भीड़ हुई है और लोगों को मेन गेट पर मास्क और सेने टाइजर की व्यवस्था की गई है लोगों को कोविड के कारण लोगों को उसके प्रति जागरूक भी किया जा रहा है