बाराबंकी (सुधीर निगम) ।जनपद अंतर्गत ब्लॉक बनीकोडर क्षेत्र के अहमदपुर में बेसिक उत्थान एवं ग्रामीण सेवा संस्थान द्वारा आयोजित ‘ नई रोशनी ‘ अल्पसंख्यक महिलाओं का छः दिवसीय नेतृत्व विकास प्रशिक्षण का समापन हुआ।
अल्पसंख्यक मंत्रालय भारत सरकार द्वारा प्रायोजित इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य अल्पसंख्यक महिलाओं को स्वरोजगार व आत्मनिर्भर बनाना है। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में महिला थाना अध्यक्ष बाराबंकी शकुन्तला उपाध्याय ने प्रशिक्षुओं को संबोधित करते हुए कहा कि हम सभी महिलाओं को आत्मनिर्भर बनना है, बाल विवाह को लेकर बढ़ रहे अपराध को खत्म करना है और अपने शारीरिक स्वास्थ्य को भी बनाए रखना है। विशिष्ठ अतिथि के रूप में चाइल्ड लाइन निदेशक रत्नेश गौतम ने कहा खानपान में बढ़ रहे हानिकारक पदार्थों के मिलावट से बचने के लिए महिलाओं के उत्तम स्वास्थ्य के लिए उन्हें अपने घर पर ही जैविक रसायन द्वारा उत्पन्न गृह वाटिका विकसित करने के लिए प्रेरित किया।
वहीं इस कार्यक्रम में शिरकत कर रहे क्षेत्र में शांतिदूत की भूमिका निभा रहे अहमदपुर पुलिस चौकी प्रभारी सतेंद्र पांडेय ने कहा आज महिलाओं के सामने साइबर क्राइम अहम मुद्दा बना हुआ , इससे बचने के लिए उन सभी नकारात्मक चीजों को दरकिनार करते हुए हमें अपने आप को सजग करना है। सतेंद्र पांडेय ने सोशल मीडिया पर बढ़ रहे अपराध से बचने के भी गुरु प्रशिक्षुओं को दिए। ज्ञातव्य हो कार्यक्रम का शुभारंभ भी सतेंद्र पांडेय द्वारा ही किया गया था।
कार्यक्रम के अंत में छः दिवसीय कार्यशाला में भाग करने वाले प्रशिक्षुओं को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित भी किया गया। कार्यक्रम में चाइल्ड लाइन से अखिलेश कुमार, अवधेश कुमार, अंजनी जायसवाल, जियालाल ,गुलजार बानो, दीवान रामबरन, कांस्टेबल आजाद , पत्रकार बंधु व कई ग्रामीण जन उपस्थित रहे।