कानपुर देहात (अंकित तिवारी)

उत्तर प्रदेश समेत पूरे देश में महामारी के खिलाफ दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन अभियान शुरू हो गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद इस अभियान की शुरूआत की। उत्तर प्रदेश में पहले दिन 317 केंद्रों पर 31,700 हेल्थ केयर वर्कर्स को वैक्सीनेट किए जाने का अभियान चल रहा है। इसी बीच कानपुर देहात के भोगनीपुर तहसील क्षेत्र अंतर्गत पुखराया सीएससी में चौंका देने वाली तस्वीर सामने आई है। जहां महिला स्टाफ नर्स गीता ने सीएससी परिसर में हाई वोल्टेज ड्रामा शुरु कर दिया। इसके बाद तो हद तब हो गई जब सीएससी में तैनात महिला डॉक्टर प्रियंका ने वैक्सीन लगाने से साफ मना कर दिया। उन्होंने कहा कि जब मेरा मन नहीं था, इसलिए हमने कोरोना वैक्सीन लगाने से मना कर दिया।

 

बता दें कि सबसे पहले यह वैक्सीन स्वास्थ्य कर्मियों को लगाई जाएगी। प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग ने इसकी पूरी तैयारी कर ली है। सीएम योगी ने भी बलरामपुर अस्पताल का दौरा कर वहां चल रहे वैक्सिनेशन का जायजा लिया। योगी ने कहा कि भारत दुनिया का ऐसा पहला देश है जहां दो वैक्सीन बनाई गई हैं जो दूसरों की अपेक्षा सस्ती भी हैं। हमारी कोशिश है कि सबका वैक्सीनेशन हो। टीकाकरण से कोई छूटना नहीं चाहिए।

पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कोरोना वैक्सिनेशन की शुरुआत हो चुकी है। डीएम कौशलराज शर्मा ने बताया की पूरी तरह से वैक्सिनेशन के प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए टीकाकरण हो रहा है। उन्होंने बताया की 12,000 पैरा मेडीकल वर्कर्स का रजिस्ट्रेशन हुआ है पर अभी दस हजार लोगों के लिए ही वैक्सीन आई है। पहले फेज में उन्हें ही लगाई जा रही है। वाराणसी में पहला टीका अजित कुमार मिश्रा (डाटा इंट्री ऑपरेटर, महिला अस्पताल) को लगाया गया जबकि दूसरा टीका अजित कुमार आंनद (चौकीदार, महिला अस्पताल, वाराणसी) को लगा।

इससे पहले शुक्रवार को प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने बताया कि यूपी में 10, लाख 55,500 कोविशील्ड और 20,000 कोवैक्सीन के इंजेक्शन मिल चुके हैं। विभाग ने पूरी तरह कमर कस ली है। प्रदेश के 8 लाख 57 हजार स्वास्थ्य कर्मियों के नाम सूचीबद्ध किए गए हैं। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों में हर श्रेणी के लोग शामिल किए जाएंगे। इसमें डाक्टर, नर्सें, सफाई कर्मी और वार्ड ब्वाय आदि को बराबर से शामिल किया जाएगा।

प्रदेश में कोल्ड चेन पूरी तरह तैयार हैं। अपर मुख्य सचिव चिकित्सा अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में 317 केंद्रों पर यह वैक्सीन लगाई जाएगी। हर केंद्र पर 100-100 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। इसके लिए 5-5 सदस्यों की टीम बनाकर स्वाथ्य कर्मियों को टीका लगाया जाएगा। इसकी दूसरी डोज़ 28 दिन बाद लगाई जाएगी।