बाराबंकी (सुधीर निगम)। 15 जनवरी देश में सामाजिक परिवर्तन की महानायिका बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष, उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री बहन मायावती जी का 65 वा जन्मदिन विगत वर्षों की भांति इस वर्ष भी “जनकल्याणकारी दिवस” के रूप में मनाया गया ।कार्यक्रम नगर पालिका परिषद बाराबंकी के प्रांगण में आयोजित किया गया। अध्यक्षता जिला अध्यक्ष अनिल गौतम व संचालन जिला महासचिव इक्ष्वाकु मौर्य ने किया।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अयोध्या मंडल के मुख्य सेक्टर प्रभारी पवन कुमार गौतम ने कहा की करोना महामारी के कारण देश का गरीब काफी परेशान एव दुखी रहा है, जिसके चलते उनके परिवार के सामने रोजी-रोटी की समस्या पैदा हुई और किसान विरोधी बिल को वापस लेने के लिए देश का किसान आंदोलनरत है, आंदोलन के दौरान दर्जनों किसानों की शहादत हुई है, इसीलिए इस बार का जन्मदिन सादगी पूर्ण तरीके से बिना केक काटे, बिना अन्य किसी तामझाम के मनाया गया। जिसमें जरूरतमंद लोगों की आर्थिक सहायता, कंबल वितरण, फल वितरण करके मनाया गया है। देश व प्रदेश की सरकार से हर वर्ग परेशान है, किसान, छात्र, बेरोजगार आत्महत्या करने को मजबूर हैं, इसीलिए उत्तर प्रदेश का हर वर्ग भाजपा सरकार से मुक्ति चाहता है। प्रदेश में कानून के द्वारा कानून का राज स्थापित करने, विकास युक्त, सर्वजन हिताय- सर्वजन सुखाय पर आधारित सबको शिक्षा, सुरक्षा, सम्मान, रोजगार पाने के लिए पांचवी बार उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाने का संकल्प लिया है ।भाजपा सरकार के जंगलराज, गुंडाराज से जनता त्राहि-त्राहि कर रही है, बहन जी के सुशासन को हर वर्ग याद कर रहा है ।
कुर्सी प्रभारी/ प्रत्याशी जैसीराम वर्मा, रामनगर के प्रत्याशी /प्रभारी राम किशोर शुक्ला ने कहा की उत्तर प्रदेश अपराध युक्त प्रदेश बन गया है, जहां भाजपा के नेता, कार्यकर्ता महिलाओं के साथ जुल्म- ज्यादती बड़े पैमाने पर कर रहे।बेटी बचाओ बेटी पढाओ कानारा हवा हवाई साबित हुआ है।इह सरकार मे मन्दिरो के अन्दर भी महिलाओ की आबरू सुरक्षित नही है, उन्होंने कहा कि होने वाले पंचायत चुनाव में प्रधान, बीडीसी, डीडीसी बनाना है, उसके बाद 2022 के विधानसभा चुनाव में भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकना है और पूर्ण बहुमत से बसपा की सरकार बनाने का संकल्प लिया।
जिला अध्यक्ष अनिल गौतम ने कहा कि आज उमडा विशाल जनसमूह इस बात का प्रतीक है कि भाजपा सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो गई है, भाजपा की सरकार विदेशी आक्रमणकारी की तरह देश के उपक्रमों को बेचने का काम कर रही हैं, देश की आर्थिक स्थिति एवं संविधान खतरे में है, जिसे बचाने के लिए बसपा का हर कार्यकर्ता आगे आएगा।