कोटवाधाम बाराबंकी ।तहसील सिरौली गौसपुर क्षेत् के महमूदाबाद मे आयोजित श्रीमदभागवत कथा सप्ताह रस वर्षण महोत्सव के पंचम दिन कथा व्यास श्रद्धेय चन्द्रशेखर जी महाराज ने श्री राम कथा व नंदोत्सव का संवाद सुनाया। जिसमें उन्होंने बताया कि जब भगवान श्री राम के जन्म के बाद से ही अयोध्या में खुशी का माहौल था। भगवान ने भी उनका जन्म बुराई पर अच्छाई के लिए किया था। क्योंकि भगवान श्री राम ने ही अपने बाण से राक्षस रावण का अंत किया था। इसके अलावा उन्होंने श्री कृष्ण के जन्म का प्रसंग भी बताया। कि कैसे भगवान श्री कृष्ण जी के जन्म में लाख अड़चनें पैदा करने के बाद भी उनके मामा कंस भगवान श्री कृष्ण का जन्म होने से न रोक सके। उन्होंने बताया कि भगवान श्री राम व भगवान श्री कृष्ण दोनो का जन्म बुराई पर अच्छाई और लोगों की भलाई के लिए हुआ था। इसके बाद उन्होने पांडाल में उपस्थित श्रद्धालुओं को ‘कभी राम बन के कभी शाम बन के चले आना प्रभु जी चले आना, ‘नटखट नटखट नंद किशोर माखन खायो माखन चोर, ‘मेरी लाज रखलो है प्रभु राम’ सहित अन्य कई मनमोहक भजनों से भक्तों को मंत्रमुग्ध किया। इस मौके पर विशेष रूप से कथा के आयोजक मुकेश कुमार यादव पत्रकार रामपाल मौर्य संजय यादव श्यामू यादव मोहम्मद अजीम उमेश कुमार ठेकी वाले आदि उपस्थित थे।