अहमदाबाद
गुजरात में 8 सीट पर होने वाले विधानसभा उपचुनाव को लेकर भाजपा व कांग्रेस के स्टार प्रचारकों की सूची सामने आ गई है। चुनाव प्रचार की कमान प्रदेश स्तर के नेता ही संभाल रहे हैं। भाजपा में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष जीतू भाई को इस सूची में शामिल ही नहीं किया गया जबकि ठाकोर समाज के नेता अल्पेश ठाकोर सूची के सबसे आखिरी नंबर पर हैं। कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया को मध्यप्रदेश में स्टार प्रचारकों की सूची में सबसे नीचे रखने की चर्चा हो रही है लेकिन गुजरात में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए नेता अल्पेश ठाकोर को भी भाजपा ने सूची में सबसे अंतिम स्थान पर रखा है। अल्पेश अपने उल्टे सीधे बयानों को लेकर कई बार चर्चा में तो कई बार विवादों में रहे हैं। पिछले साल हुए विधानसभा उपचुनाव में अल्पेश राज्य सरकार में मंत्री बनने का दावा कर रहे थे लेकिन चुनाव में करारी हार मिली।
वर्ष 2017 में वे विधानसभा चुनाव में अल्पेश ठाकोर कांग्रेस के टिकट पर राधनपुर से विधायक चुने गए थे। पिछले वर्ष हुए राज्यसभा चुनाव के दौरान ठाकोर भाजपा के पाले में चले गए थे। भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें विधानसभा चुनाव में पार्टी के टिकट पर मैदान में उतारा लेकिन वह और उनके साथी पूर्व विधायक धवल सिंह झाला चुनाव हार गए थे। कई महीनों तक राजनीतिक अज्ञातवास भोगने के बाद गत दिनों अल्पेश ने अचानक दावा किया की उत्तर गुजरात की सबसे बड़ी बनास डेयरी में ठाकोर समाज के प्रतिनिधि के रूप में एक निदेशक की नियुक्ति होने वाली है।
भाजपा के ही पूर्व मंत्री शंकर भाई चौधरी ने आनन-फानन में अल्पेश के बयान का खंडन करते हुए बताया कि ठाकोर समाज के करसन जी ठाकोर बीते 5 साल से डेरी में निदेशक के पद पर कार्यरत हैं। गुजरात की 8 विधानसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव को लेकर अल्पेश अपना महत्व बताने का प्रयास कर रहे थे लेकिन भाजपा ने उनको कट टु साइज करते हुए 30 स्टार प्रचारकों की सूची में सबसे आखरी में स्थान दिया। हालांकि भाजपा के ही पूर्व प्रदेश अध्यक्ष जीतूभाई वाघानी फोटो इस सूची में स्थान ही नहीं मिला। गौरतलब है कि उनकी अध्यक्षता में हुए 2017 के विधानसभा चुनाव में पार्टी 99 सीट पर सिमट गई थी।