निष्पक्ष जन अवलोकन। अजय रावत।

सिरौलीगौसपुर बाराबंकी। शौ शैय्या वाले संयुक्त चिकित्सालय सिरौलीगौसपुर में सर्जन बेहोशी के डाक्टर आदि स्टाफ की कमी के चलते सरयूनदी घाघरा की तलहटी के ग्रामीणों को सही समय पर नहीं मिल रहा है उपचार ।
बताते चलें कि सोमवार की सुबह करीब आठ बजे ग्राम फिरोजपुर मजरे कमोली की 60 वर्षीय ननका पत्नी मुन्नालाल को इमरजेंसी लाया गया इमरजेंसी डयूटी कर रहे डाक्टर अविनाश उपाध्याय ने मरीज का अल्ट्रासाउंड कराने को कहा परिजन मरीज को लेकर अल्ट्रासाउंड कराने ले गये अल्ट्रासाउंड कराने के पश्चात पुनः अस्पताल लेकर पंहुचे उसके थोडी देर बाद बृद्व महिला की मृत्यु हो गई। कई करोड़ रूपए की लागत से बनवाये गये इस शौ शैय्या वाले संयुक्त चिकित्सालय में अल्ट्रासाउंड मशीन न होने बेहोसी एंव आॅपरेशन के सर्जन आदि स्टाफ न होने के चलते अस्पताल बेमतलब साबित हो रहा है।
शौ शैय्या वाले संयुक्त चिकित्सालय में स्टाफ डाक्टरों की कमी होने के चलते यह चिकित्सालय प्रायः सुर्खियों में बना रहता है।