कानपुर देहात

जीपीएल फैक्ट्री में कार्यरत फैक्ट्री कर्मी की मौत को लेकर किसान यूनियन के मसीहा राकेश टिकैत के निर्देशानुसार किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने जीपीएल फैक्ट्री के गेट के बाहर किया विशाल धरना प्रदर्शन रनिया अकबरपुर कोतवाली क्षेत्र के धंजुआ गांव में बीते दिनों एक युवक ने रायपुर स्थित धागा फैक्ट्री के प्रबंधक से तंग आकर जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली थी इसी को लेकर भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने रायपुर स्थित जीपीएल फैक्टरी के गेट पर आरोप लगाते हुए बताया कि मालिक वह मैनेजर के उत्पीड़न से तंग आकर आत्महत्या करने वाले मजदूर श्याम प्रताप सिंह उर्फ नीरज व उनके परिवार को न्याय दिलाने के लिए भारतीय किसान यूनियन के मसीहा राकेश टिकैत के निर्देशानुसार अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन किया गया और जय किसान जय जवान के नारे लगाते रहे वही मृतक की पत्नी प्रीति सिंह ने बताया कि धंजुआ निवासी पति श्याम प्रताप सिंह उर्फ नीरज रायपुर स्थित फैक्ट्री में ऑपरेटर पद पर कार्य करते थे पति को फैक्ट्री परिसर में काम करते वक्त कमर में गंभीर चोटें आई थी जिसके बाद फैक्ट्री द्वारा उनके पति का इलाज नहीं कराया गया था बल्कि फैक्ट्री के मैनेजर सरवन सिंह शेखावत के द्वारा पति श्याम प्रताप सिंह उर्फ नीरज जोकि ऑपरेटर पद पर नौकरी करते थे घटना के बाद उनको फैक्ट्री से निकाल दिया गया कई बार फैक्ट्री गए इलाज का पैसा मांगने लेकिन फैक्ट्री के मैनेजर सरवन शेखावत ने धमकाकर फैक्ट्री से बाहर भगा दिया फैक्ट्री मैनेजर के उत्पीड़न से तंग आकर पति ने 27 अगस्त को कीटनाशक दवा को खाकर आत्महत्या कर ली आत्महत्या करते वक्त उसने एक वीडियो बनाया था जिसमें वह अपनी मौत के गुनाहगार मैनेजर सरवन सिंह शेखावत को बताया था घटना की तहरीर अकबरपुर कोतवाली में दी गई अधिक समय बीत जाने के बाद भी फैक्ट्री प्रबंधक पर कोई कार्यवाही नहीं की गई जिससे परिजनों में रोष व्याप्त है इसी को लेकर किसान यूनियन नेता के कार्यकर्ताओं ने रायपुर स्थित जीपीएल फैक्ट्री के गेट पर अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन का कार्य जारी रखा वहीं पर मृतक के परिजनों ने बताया कि जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं होती हैं यह धरना अनिश्चितकाल रहेगा इस दौरान किसान यूनियन के कार्यकर्ता सरवन खेड़ा ब्लॉक अध्यक्ष आदित्य सिंह चंदेल छुन्नी कमल संगठन मंत्री रेखा वर्मा राम नारायण यादव जिला अध्यक्ष रमेश सिंह यादव मंडल अध्यक्ष आदि लोग मौजूद रहे