लंदन
ब्रिटेन की सरकार ने भारत यात्रा पर जाने वाले अपने नागरिकों के लिए आधिकारिक परामर्श को शनिवार को अपडेट किया। एक दिन पहले ही भारत ने ब्रिटिश नागरिकों के लिए पृथक-वास में रहने संबंधी नियम निर्धारित किए थे जो सोमवार से प्रभाव में आएंगे। भारत ने यह कदम अंतरराष्ट्रीय यात्रा को लेकर भारतीयों के लिए ब्रिटेन के इसी तरह के कदम के जवाब में उठाया था। ब्रिटेन की सरकार ने इसमें कहा कि वह इस मुद्दे को लेकर भारतीय अधिकारियों के ‘करीबी संपर्क’ में है।
ब्रिटेन के विदेश, राष्ट्रमंडल एवं विकास कार्यालय (FCDO) की ओर से जारी अपडेट यात्रा परामर्श में कहा गया है कि सोमवार से, ब्रिटेन से भारत जाने वाले यात्रियों को वहां पहुंचने के आठवें दिन भी कोविड-19 जांच करानी होगी तथा 10 दिन तक अनिवार्य पृथक-वास में रहना होगा। एक दिन पहले भारत सरकार ने घोषणा की थी कि टीकाकरण होने के बावजूद सोमवार से भारत आने वाले ब्रिटिश नागरिकों को 10 दिन तक पृथक-वास में रहना होगा। अंतरराष्ट्रीय यात्रा को लेकर भारतीयों के लिए ब्रिटेन के इसी तरह के कदम के जवाब में भारत ने यह कदम उठाया।
ब्रिटेन की सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया, ‘‘भारत में प्रवेश के लिए नियम तय करने और उन्हें लागू करने की जिम्मेदारी भारतीय अधिकारियों की है। हम उनके करीबी संपर्क में हैं और नियमों में कोई भी परिवर्तन होने की स्थिति में एफसीडीओ यात्रा परामर्श को अद्यतन किया जाएगा।” नए परामर्श में कहा गया है कि भारत जाने वाले सभी यात्रियों को हवाई अड्डे पर पहुंचने पर और आठ दिन बाद अपने खर्चे पर कोविड-19 संबंधी आरटी-पीसीआर जांच करानी होगी तथा दस दिन के लिए अनिवार्य पृथक-वास में रहना होगा।