औरैया (दीपक पांडेय) ग्रामीणों ने की मुख्यमंत्री एवं कृषि राज्य मंत्री से आवारा पशुओं को पकड़ाये जाने की मांग।

 

विकासखंड भाग्यनगर के अंतर्गत ग्राम पंचायत भर्रापुर,अधासी,केशमपुर पसईपुर,नन्हा,जुआ,मुडैना रामदत्त,फतेहपुर लख्मी,फतेहपुर रामू,भैंसौल,माखनपुर,टीकमपुर,बिंदपुर,दसरौरा,तुलसीपुर,फतेहपुर बेनी,सिंदुरिया आलमपुर,बुढानपुर,आदि गांव के किसानों की फसल आवारा पशुओं के द्वारा चर लेने के कारण किसान बहुत परेशान है,किसान रात में जागकर खड़ी फसलों को बचा रहे हैं,जरा भी पलक जपकी और फसल नष्ट,इन गांवों के किसानों ने मुख्यमंत्री एवं कृषि राज्य मंत्री से मांग की है कि अविलंब आवारा पशुओं को पकड़ा कर फफूंद व अन्य जगहों पर बनाई गई गौशाला में पहुंचाया जाए,ताकि आवारा पशुओं के द्वारा किसानों की फसल को बचाया जा सके,तथा बर्बाद हुई फसल का आकलन करवा कर किसानों को उनका मुआवजा दिया जाए,विदित हो कि हमारे क्षेत्र में दो गौशाला फफूंद में व एक ग्राम पंचायत तर्रई में व एक नियामतपुरपुर बैहारी में स्थित है, मुख्यमंत्री एवं कृषि राज्य मंत्री से मांग करने वालों में लला त्रिपाठी पूर्व प्रधान भर्रापुर,प्रदीप पांडे,ओमप्रकाश तिवारी,श्याम जी,राम जी,रमेश चंद,जय नारायण कुशवाहा,राम शंकर,कमलेश कठेरिया,संतोष तिवारी,लज्जाराम राठौर,कल्लू तिवारी,आशू मिश्रा,मुन्ना मिश्रा,देवेंद्र मिश्रा,मुन्ना कुशवाहा,नीलू राजपूत,अतुल पांडे,स्वराज सेठ,प्रशांत त्रिपाठी,त्रिलोक पांडे,डॉक्टर वीर सिंह,काजू पांडे,सरमन राजपूत,प्रकाश चंद्र शुक्ला,राजेश कुमार पाल प्रधान केशमपुर,यदुनाथ सिंह राजपूत,भोले राजपूत,सुधीर राजपूत,जय नारायण मिश्रा,श्री राम राजपूत,दर्शन लाल राजपूतआदि किसान प्रमुख है। विदित हो इस शिकायत के संबंध का एक समाचार देगा तो 10 सितंबर को स्वतंत्र चेतना एवं चेतना विचारधारा मैं यह समाचार प्रमुखता से प्रकाशित किया गया था जिसमें जिला अधिकारी औरैया से मांग की गई थी कि इन आवारा पशुओं को पकड़ा कर नगर व क्षेत्र में संचालित हो रहीं गौशालाओं में पहुंचाया जाए,मगर आज तक जिलाधिकारी औरैया द्वारा इस पर कोई संज्ञान नहीं लिया गया /