निष्पक्ष जन अवलोकन। अजय रावत। सिरौलीगौसपुर। दो दिनों से हो रही बारिश से ग्रामीण क्षेत्र का जनजीवन अस्त-व्यस्त रहा रात में कई घंटे तक हुई मूसलाधार बारिश से कोटवाधाम अमनियापुर तहसीपुर अरियामऊ संहजनी मरौचा मदारपुर मीरापुर मोहद्दीपुर बरोलिया रसूलपुर बदोसरांय मरकामऊ अद्रा बैसन खजुरी मोहरिया मधनापुर सिरौलीगौसपुर डूंडी करोरा श्यामनगर पासिनपुरवा पीठापुर सहित पूरे क्षेत्र मे भारी तबाही घरों में भरा पानी ग्रामीण बारिश रुकते ही फावडा बेलचा लेकर पानी निकालने की जुगत में जुट गए। उसके बाद से ही पुनः बारिश शुरू हो गई है।
वहीं सरयू नदी घाघरा का जलस्तर बढने कहारन पुरवा गोबरहा तेलवारी भौरीकोल सनांवा कोठीडीहा सिरौलीगुंग बबुरी ढेखवा परसा सरदहा आदि गांवों के ग्रामीण काफी भयभीत व परेशान हैं। नेपाल के बनबसा एंव गिरिजा बैराज से यदि पानी छोड़ा गया तो भारी तबाही का मंजर होगा अलीनगर रानीमऊ तटबांध के भीतर बसे गांवों के ग्रामीणों की गन्ना धान आदि फसलें नष्ट हो जायेंगी ।
सनांवा निवासी एंव सांसद उपेन्द्र रावत के प्रतिनिधि समरजीत सिंह विनोद ने बताया है कि तराई क्षेत्र के हालात की जानकारी दूरभाष पर उपजिलाधिकारी व तहसीलदार को दे दी है।राजस्व निरीक्षक व लेखपालों की टीम बाढ से प्रभावित होने वाले गांवों को भेजी गई है।
उपजिलाधिकारी सुरेन्द्र पाल विश्वकर्मा ने बताया है कि सरयू नदी घाघरा का जलस्तर बढा है राजस्व टीम गांवों का भेजी गई है।