औरैया (दीपक पाण्डेय) यात्रियों के बैठने की कुर्सियों को अराजकतत्वों ने तोड़ा।

कंचौसी रेलवे स्टेशन के सुंदरीकरण व प्लेटफ़ॉर्म के लिए ऊँचा करने के लिए रेलवे की ओर से करोड़ो रुपये खर्च किए गए| तब भी रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 2 का पूरा हिस्सा व प्लेटफ़ॉर्म नंबर 1 का आधा हिस्सा रात्रि में अंधेरे में डूबा रहता है| सुरक्षा के खास इंतजाम न होने से अराजकतत्वों द्वारा यात्रियों के लिए बैठने के लिए बनी सीमेंट की कुर्सियों व रेलवे स्टेशन पर लगी स्टीट लाइटों को अराजकतत्वों द्वारा तोड़ दिया गया| कंचौसी रेलवे स्टेशन के दोनों प्लेटफ़ॉर्मों पर कभी-कभी शराबियों का अड्डा बना रहता है| जिससे आने-जाने वाली महिला यात्रियों में भय बना रहता है| स्टेशन पर आर. पी. एफ. की तैनाती न होने से दिन में भी अक्सर अराजकतत्व मंडराते रहते हैं| जबकि इसकी शिकायत दैनिक यात्रियों व कस्बा वासियों द्वारा उत्तर मध्य रेलवे के उच्च अधिकारियों से की जा चुकी है|इसके बावजूद मामले को रेलवे अधिकारियों द्वारा कोई संज्ञान में नहीं लिया गया है| इस संबंध में स्टेशन अधीक्षक विशम्भर दयाल पांडेय ने बताया रेलवे स्टेशन पर तोड़फोड़ करने वाले अराजकतत्वों को आर. पी. एफ. को अवगत कराकर पता लगाया जा रहा है|