सिरौलीगौसपुर बाराबंकी । सत्य के पथ पर चल कर ही मानव प्राणी मोक्छ प्राप्त कर सकता है ।
यह बात बडी गददी के महन्त नीलेन्द्र बक्श दास ने सप्तमी के अवसर पर आये सैकडों सत्यनामी सम्प्रदाय के अनुयायियों को उपदेशित करते हुये कही । उन्होंने कहा कि नाम ही राम है और राम ही सत्यनाम है।किन्तु संसार के जितने नाम हैं सब उसी के नाम हैं।राम नाम सत्य निराकार अलख निरंजन ऊं हंस अगम अगोचर अविनाशी है।वह जर्रे जर्रे चर अचर सभी प्राणिंयो के अंतर घट मे स्वांसो के रूप रमा हुये होने के कारण राम कहा गया है ।राम ही अखिल विश्व ब्रह्माड के रचायिता महानायक सत्पुरूष है और वह ही सत्यनाम हैं।
श्री समर्थ साहेब जगजीवन दास बडे बाबा के बताये हुये सत्य के पथ का सभी सत्यनामी जन अनुशरण करके मोक्छ के मार्ग को प्रशस्त करें ।