◆सीसीटीवी फुटेज,भौतिक और डिजिटल साक्ष्यों से फर्जी पायी गयी लूट की घटना
◆मेडिकल रिपोर्ट में भी नही मिला गोली लगने का प्रमाण

निष्पक्ष जन अवलोकन।
रामानन्द गुप्ता।
बाराबंकी। थाना हैदरगढ पुलिस टीम द्वारा फर्जी लूट की घटना का सफल अनावरण किया गया, घटनाक्रम के बाबत वादी दिलीप कुमार सोनी पुत्र ठाकुर प्रसाद सोनी निवासी ग्राम लाही द्वारा सूचना दी गयी कि वह अपनी ज्वैलर्स की दुकान नेरथुआ मोड़ से बन्द करके अपने भाई दीपक कुमार सोनी के साथ घर के लिए निकले और रास्ते में शराब के ठेके से आगे आने पर 03 अज्ञात प्लेटिना सवार व्यक्तियों ने पीछे से आकर धक्का दे दिया और गोली चला दी जो उसे लगी और नीचे गिर गया तथा उसके भाई दीपक सोनी से बैग छीन कर रायबरेली की तरफ भाग गये ।

वादी द्वारा बताया गया कि बैग में 25 जोड़ी बिछिया, 02 लाकेट व 50 पीस नाक की कील तथा 50 हजार रूपये नकद रखे थे। उक्त सूचना के आधार पर थाना हैदरगढ़ पर मु0अ0सं0-248/21 धारा 394 भादवि पंजीकृत किया गया।

मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक बाराबंकी यमुना प्रसाद द्वारा घटना का तत्काल संज्ञान लेते हुए सफल अनावरण करने हेतु अपर पुलिस अधीक्षक दक्षिणी मनोज कुमार पाण्डेय के निर्देशन, क्षेत्राधिकारी हैदरगढ़ नवीन सिंह के पर्यवेक्षण में 02 पुलिस टीमों का गठन किया गया। पुलिस टीमों द्वारा अथक प्रयास कर घटना के अनावरण करने का प्रयास किया जा रहा था तो भौतिक एवं डिजिटल साक्ष्याधार पर लूट की घटना फर्जी पायी गयी, जिसके क्रम में दर्ज अभियोग में धारा 394 भादवि का लोप करते हुए धारा 420/203 भादवि की बढ़ोत्तरी की गयी तथा को अभियुक्त दिलीप कुमार सोनी दीपक कुमार सोनी पुत्रगण ठाकुर प्रसाद सोनी निवासी ग्राम लाही थाना हैदरगढ़ जनपद बाराबंकी को गिरफ्तार किया गया।

अपर पुलिस अधीक्षक दक्षिणी द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि पुलिस टीम द्वारा घटना की जांच से प्रकाश में आया कि वादी दिलीप सोनी की कोई स्थायी दुकान नहीं है। इनके द्वारा अपने ही परिवार के पिन्टू सोनी व आर0के0 ज्वैलर्स हैदरगढ़ से ज्वैलरी लेकर लोगों को बेचते है। इसी बीच दिलीप सोनी ने पिन्टू सोनी से ज्वैलरी, आर0के0 ज्वैलर्स से 7500/- रूपये व रंजीत गुप्ता पुत्र सन्तोष गुप्ता निवासी शाहपुर थाना शिवगढ़ जनपद रायबरेली से 14000/- रूपये नकद लिया था । नकद रूपये व ज्वैलरी न देने के लिए इनके द्वारा प्लान बनाया गया जिसके तहत गोली मार कर लूट की घटना होना बताया गया था ।

पुलिस टीम द्वारा लाही मेन रोड पर स्थित पेट्रोल पम्प जहां सीसीटीवी लगा हुआ से पाया गया कि दिलीप सोनी व दीपक सोनी द्वारा दिखाई गयी घटना होने के पश्चात पेट्रोल पम्प कर्मियों व प्रधान को बताया गया कि मेरे साथ गोली मार कर लूट की घटना कारित की गयी है और पुनः वापस जाकर उसी स्थान पर जाकर लेट गये जहां से उन्हें चोट आयी । गोली मारने की घटना भी फर्जी पायी गयी, मेडिकल के आधार पर चोट गोली मारने से नहीं होना पाया गया । घटना स्थल के आस-पास लोगों के घर है लेकिन पुलिस द्वारा पूछताछ करने पर घटना की कोई जानकारी नहीं थी, इसी तरह दिलीप के छोटे भाई शुभम सोनी द्वारा रंजीत गुप्ता को फोन कर पुलिस की पूछताछ में 50 हजार रूपये दिये जाने की बात बताये जाने के लिए कहा गया जिसकी कॉल रिकार्डिग रंजीत गुप्ता द्वारा की गयी थी । बताई गई प्लेटिना गाड़ी भी वादी के घर से बरामद हुई है।