औरैया (दीपक पाण्डेय) आजादी के बाद भी नहीं हुआ इस गांव में कोई विकास।

 

ग्राम पंचायत भासौन के मजरा स्वरूप नगर

 

भारत सरकार से लेकर उत्तर प्रदेश सरकार तक की योजना है घर-घर शौचालय घर घर आवास।सरकार की सारी सरकारी योजनाएं हवा-हवाई होती नजर आ रही हैं।एक ऐसा गांव जहां पर विकास के नाम पर लोगों के साथ किया जा रहा विश्वासघात।चुनाव के समय वोट लेने के लिए हर पार्टी के नेता करते हैं बड़े बड़े वादे हर वादे होते हैं हवा हवाईशासन से लेकर प्रशासन तक की अधिकारियों से शौचालय व आवास के लिए लगाई गुहार आज तक किसी भी नेता से लेकर अधिकारियों तक इस गांव के लिए कोई विकास योजना के लिए नहीं उठाए ठोस कदमअगर मुख्यमंत्री जी इस गांव की दशा देख ले तो आपको अपने ही पार्टी के सांसद और विधायकों की हकीकत सामने निकल कर आ जाएगी।मान्यवर जी विकास के नाम पर जनता के साथ करते हैं धोखाधड़ी वोट लेकर नहीं कराते ग्रामीण क्षेत्रों में विकास कार्य।आज भी बेहड पट्टी में गांव के गरीब लोग झोपड़पट्टी में रहने को है मजबूर

गरीब ग्रामीण वासी झोपड़ियों पर पन्नी तानकर अपना गुजर-बसर कर रहे हैं

आज तक जो भी प्रधान इस ग्राम पंचायत में बना है झूठे आश्वासन के सिवाय इन लोगों को कुछ नहीं मिला

बदबूदार कीचड़ से भरी पड़ी नालियां बड़ी-बड़ी घास में होकर निकलने को मजबूर

आज तक इस गांव में सफाई कर्मी भी नहीं आता सफाई करने के लिए

जब संवाददाता ने इस मामले की ग्रामीणों से जानकारी की तो पूर्व प्रधान व ग्राम विकास अधिकारी की लापरवाही सामने निकल कर आ रही है

ग्रामीणों ने बताया की पूर्व प्रधान आवास के नाम पर पैसों की मांग करते थे हम लोग कितने गरीब हैं कि पैसे ना दे पाने की वजह से हम लोगों को आवाज नहीं दिए गए और ना ही ग्राम विकास अधिकारी और प्रधान मेरी बात सुनने को तैयार थे पूरे 5 साल बीत जाने के बाद भी एक बार भी सफाई कर्मी सफाई करने के लिए नहीं आया इस मामले को लेकर मैंने उच्च अधिकारियों से प्रधान व ग्राम विकास अधिकारी के खिलाफ शिकायत की उस पर किसी भी उच्च अधिकारी ने कार्रवाई नहीं की और ना ही मेरे गांव में कोई विकास कार्य किया गया।

योगी जी आपकी शासन में इन गरीबों की फरियाद कब सुनेंगे उच्च अधिकारी कब मिलेंगी इनको रहने के लिए आवास क्या टपकती हुई झोपड़ी में रहने को बने रहेंगे मजबूर यह मामला औरैया ब्लाक क्षेत्र के ग्राम पंचायत भासौन के मजरा स्वरूप नगर जिसमें बंजारे समाज के लोग रहते हैं।