निष्पक्ष जन अवलोकन।
योगेश जायसवाल।
बाराबंकी। कल्याण सिंह जैसे लोग हमेशा नही मिलते। सियासत के बियाबान में तो खास कर नही। वैचारिक रूप से मैं कभी उनका समर्थक नही रहा बल्कि धुर विरोधी रहा, मगर उनकी आत्मीयता का कायल हमेशा रहूंगा।

यह बात उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं राजस्थान के राज्यपाल रहे कल्याण सिंह के निधन पर गांधी भवन में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में गांधीवादी राजनाथ शर्मा ने कही।

शर्मा ने कहा कल्याण सिंह जनता की नब्ज पकड़ने वाले, ईमानदार, सिद्धांतवादी और मुद्दो पर अड़ने वाले मुख्यमंत्री थे। उन्हीं के कार्यकाल में जब उच्च न्यायालय के आदेश के बाद गांधी भवन के संचालन का विवाद हुआ। तब उन्होंने तत्कालीन जिलाधिकारी को निर्देश दिया कि उच्च न्यायालय के आदेश का अक्षरशः पालन हो और उन्होंने जनपद में एक मात्र महात्मा गांधी के वैचारिक केंद्र के रूप में गांधी भवन को स्थापित करवाया।

इस मौके पर प्रमुख रूप से विनय कुमार सिंह, पाटेश्वरी प्रसाद, मृत्युंजय शर्मा, विजय कुमार सिंह, सत्यवान वर्मा, साकेत मौर्य, पीके सिंह, नीरज दूबे सहित कई लोगों ने दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की।

पूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को श्रद्वान्जलि अर्पित की गई

सिरौलीगौसपुर बाराबंकी। पूर्व मुख्यमंत्री एंव पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह के निधन पर भाजपा मंण्डल अध्यक्ष संतोष पाण्डेय युवा भाजपा नेता अभिनव शुक्ल संदीप कुमार वर्मा पिन्टू जिला अध्यक्ष पिछडा वर्ग रामसागर कनौजिया आदि ने गहरा दुःख ब्यक्त करते हुए आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना किया है।
सीतादेवी महाविद्यालय पारिजात धाम बरोलिया के निदेशक अभिषेक शुक्ला ने महाविद्यालय में शोक सभा का आयोजन करके पूर्व मुख्यमंत्री कल्यांण सिंह को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित किया।इस मौके पर प्राचार्य डॉ अर्चना त्रिपाठी अनिरुद्ध जयप्रकाश इत्यादि लोग भी उपस्थित रहे।