निष्पक्ष जन अवलोकन।
अजय रावत।
सिरौलीगौसपुर बाराबंकी। जिले के सुप्रसिद्ध तीर्थ स्थल के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के डाक्टर व फार्मासिस्ट के आवास फीसों वर्षों से जर्जर गिरे पडे हुये । 1965/66 मे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एंव पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष स्वर्गीय महन्त जगन्नाथ बक्श दास साहब ने यह सौगात क्षेत्र वासियों को मुहैय्या कराई थी जिसे स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के चलते उसे संजोकर बरकरार नहीं रख सका।परिणति फार्मासिस्ट व डाक्टर यहां कभी भी रात्रि निवास नही करते।
इस प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र की स्वास्थ्य सेवा एल टी संजीव रत्न के सहारे चल रही है।
बताते चलें कि जिले के सुप्रसिद्ध तीर्थ स्थल कोटवाधाम के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर दर्जनों गांवों कोटवाधाम अरियामऊ केशवरी पुरवा जदवापुर सहंजनी मरौचा रानीपुरवा पासिनपुरवा मुड़ियाडीह सहित दर्जनों गांवों के ग्रामीणों को इस केन्द्र से स्वास्थ्य लाभ मिलना है। जंहा डाक्टर सुमित बेंजामिन की तैनाती कागज़ों पर है कभी कभार कोटवाधाम आते हैं वह अपनी सेवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंन्द्र मथुरानगर मे करते। घाघरा की तलहटी के गांवों के ग्रामीणों वालों मेलार्थियों को स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैय्या कराने के उद्देश्य से स्वतंत्रता संग्राम सेनानी पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष स्वर्गीय महन्त जगन्नाथ बक्श दास साहब ने 1965/66 मे इस अस्पताल को बनवाया था जिससे 1995 तक क्षेत्र के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा लखनऊ बाराबंकी से वापस लौटे मरीजों ने भी उठाई ।उसके बाद से डाक्टर फार्मासिस्ट के आवास गिरते गये डाक्टर और कम्पांउन्डर का रुकना कम होता गया। वर्ष 2010 से इस केन्द्र पर डाक्टर फार्मासिस्ट कभी रुके नही।
क्षेत्र मे अलग पहचान रखने वाले इस स्वास्थ्य केंन्द्र का धीरे धीरे आस्तित्व ही समाप्त होता नजर आ रहा है। डिस्पेंसरी भवन मे भी वर्षात में टपका लगा हुआ है।इस बाबत सी एच सी मथुरानगर के अधीक्षक डॉक्टर कुमार संजय पान्डेय ने बताया है कि भवन शासन स्तर से स्वीकृत होते हैं हर वर्ष लिखा पढी की जाती है परन्तु बजट न आंवटित होंने के कारण अस्पताल डिस्पेंसरी भवन डाक्टर फार्मासिस्ट व अन्य स्टाफ के भवनों का निर्माण नही हो पा रहा है। ग्राम प्रधान वंदना दास ने अस्पताल में आवास आदि का निर्माण करवाने के लिए क्षेत्रीय विधायक शरद कुमार अवस्थी को पत्र दिया है।