कानपुर निष्पक्ष जन अवलोकन नारायण शुक्ला

कानपुर और आसपस के जिलों में कोरोना के लंबे अंतराल के बाद स्कूल और कॉलेज आज सोमवार से गुलजार हो गए। सभी स्कूल कॉजेल कोविड-19 प्रोटोकॉल के साथ खोले गए हैं। सीबीएसई, आईसीएसई और यूपी बोर्ड के नवीं से 12वीं तक के स्कूल खोले गए हैं।

 

आज से डिग्री कॉलेज में भी चहल-पहल देखने को मिली। स्कूल कॉलेज पहुंचे छात्र छात्राओं को फूल और सैनिटाइजर से स्वागत किया गया। वहीं कई स्कूलों का कहना है कि रक्षाबंधन का पर्व होने के बाद ही बच्चों को आने की परमीशन दिया जाएगा।

 

कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बाद पहली बार कक्षा 9 से 11 तक के स्कूल खुल गए हैं। स्कूलों में बच्चों का ताली बजाकर स्वागत किया गया। अभी आधी क्षमता के साथ बच्चे स्कूल बुलाए हैं। मास्क की अनिवार्यता की गई। हाथों को सैनिटाइज करके प्रवेश दिया गया।सोमवार से स्कूलों के खुलने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम 9 के साथ हुई बैठक में कहा कि रक्षाबंधन के बाद 23 अगस्त से छठी से आठवीं तक और एक सितंबर से कक्षा एक से पांचवीं तक के स्कूल भी शुरू किए जाएं। उन्होंने इस संबंध में अफसरों को दिशा-निर्देश जारी करने का आदेश दिया है।

 

 

बता दें कि सोमवार से माध्यमिक, उच्च, प्राविधिक और व्यावसायिक शिक्षण संस्थानों में 50 फीसदी क्षमता के साथ भौतिक रूप से पठन-पाठन प्रारंभ हो गया है।

 

मुख्यमंत्री योगी ने बैठक में कहा कि सतत प्रयासों से कोरोना की दूसरी लहर पर बने प्रभावी नियंत्रण के साथ-साथ जनजीवन तेजी से सामान्य हो रहा है। आज प्रदेश के 17 जनपदों (अलीगढ़, अमेठी, बलिया, बांदा, बहराइच, बिजनौर, चित्रकूट, देवरिया, फर्रुखाबाद, फिरोजाबाद, हरदोई, हाथरस, कासगंज, कौशाम्बी, महोबा, संतकबीरनगर और शामली) में कोविड का एक भी मरीज शेष नहीं है। यह जिले अब संक्रमण से मुक्त हैं। औसतन हर दिन ढाई लाख से अधिक टेस्ट हो रहें हैं, जबकि पॉजिटिविटी दर 0.01 बनी हुई है और रिकवरी दर 98.6 फीसदी है।