बाराबंकी( सुधीर निगम)। जिले के प्रभारी मंत्री दारा सिंह चौहान ने एलईडी वैन को हरी झंडी दिखाकर मिशन शक्ति अभियान की शुरुआत की। 180 दिनों तक चलने वाले इस अभियान के तहत महिलाओं और बच्चों की हिंसा से रोकथाम, पॉक्सो एक्ट के अंतर्गत बच्चों का यौन हिंसा से बचाव, घरेलू हिंसा, बाल विवाह और भ्रूण हत्या रोकने के लिए जागरूक किया जाएगा. इस मौके पर कन्या सुमंगला योजना, टॉपर्स छात्राओं और कोरोना काल मे कोविड प्रभावित लोगों के इलाज में मदद के दौरान हुई दो मौतों के परिजनों को आर्थिक मदद दी गई।

महिलाओं और बालिकाओं को सशक्त करने के लिए और उनको विविध प्रकार की हिंसा से रोकने के लिए प्रदेश सरकार ने शनिवार से मिशन शक्ति अभियान की शुरुआत की है। शारदीय नवरात्रि में वासंतिक नवरात्रि यानी 180 दिनों तक चलने वाले इस अभियान में जिले के तमाम विभाग अपनी भागीदारी निभाएंगे. एक एलईडी वैन पूरे जिले में घूम-घूम कर मिशन शक्ति का प्रचार करेगी. महिलाओं और बालिकाओं को पॉक्सो एक्ट की जानकारी, यौन हिंसा से बचाव उनको मिलने वाली सहायता और पुनर्वास की जानकारी दी जाएगी.
इसके अलावा सभी ब्लॉकों में किशोरी क्लब स्थापित कर लड़कियों को खेल और आत्मरक्षा के गुर भी सिखाए जाएंगे. हर दिन कोई न कोई कार्यक्रम कर महिलाओं को जागरूक करने की योजना है. शनिवार को सीएम योगी ने बलरामपुर से इस अभियान की शुरुआत की तो बाराबंकी में प्रभारी मंत्री दारा सिंह चौहान ने इसकी शुरुआत की. इस मौके पर मुमुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के लाभार्थियों को स्वीकृति पत्र, हाईस्कूल और इंटर की टॉपर्स बालिकाओं को चेक दिए गए. इसके अलावा कोरोना काल मे प्रभावित लोगों की मदद करते हुए जान गंवाने वाले दो लोगों के परिवारों को 50 लाख अनुग्रह राशि का स्वीकृति पत्र दिया गया।