बाराबंकी (सुधीर निगम)। तहसील क्षेत्र के अंर्तगत हरे फलदार एंव गैर फलदार प्रतिबंधित प्रजाति के पेड़ों की अबैध कटान जोर सोर से चल रही है। योगी मोदी सरकार को ठेंगा दिखा रहे है क्यो? जिससे उत्तर प्रदेश सरकार को लाखो रूपये के राजस्व का नुकसान हो रहा है।
हो रहे प्रतिबंधित अबैध कटान पुलिस विभाग,वन बिभाग,सम्बंधित विभाग की बिना मिली भगत से सम्भव नही है।
विभागीय कर्मचारियों को जब सूचना दी जाती है तो कोई ठोस कार्यवाही न करने से लकडकट्टो के हौसला सातवे आसमान पर रहता है
प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम सभा रतौली मे एक अदद आम,दिलावल पुर मे दोअदद नीम ,एक शीशम, बठौली मे पाचं अदद आम,पहरुपुर मे एक अदद आम,डीहा मे पंद्रह शागौन,बाबा का पुरवा मजरे इब्राहीमाबाद मे छ अदद आम,बड़ेला नरायन पुर मे दो अदद नीम,नरायनापुर मे दो अदद शागौन,भीखरपुर मेअढ़तालीस शागौन,मझेला मे पांच आम दो शीशम, मेढ़वा मे दो नीम, कोटवा सड़क मे दो महुवा तीन आम जो राष्ट्रीय राज मार्ग से सटे हुए है इस बाबत में यदि किसी भी माध्यम से वन बिभाग को सूचना देता है तो वह कहते है कि पुलिस बिभाग जाने और पुलिस को सूचना देने पर वह कहते है कि वन बिभाग जाने मै कुछ भी नहीं कर सकता हूं।इस प्रकार से दोनों बिभाग एक दुसरे पर टालते रहने में माहिर हैं जिससे लकड़ी ठेकेदारो के हौसले काफी बुंलदियों पर है ।तथा बन माफीया खुश नजर आ रहें हैं।उपरोक्त सभी प्रकार की लकड़ीया भठठो एवं अडियो पर रात मे ही गिराई जाती है?
योगी सरकार के पर्यावरण वृक्षारोपण को बढ़ावा देने में कोई कोर कसर नही छोड़ रहे है और पर्यावरण वृक्षारोपण काफी जोर दे रहे है सम्बंधित विभाग वन विभाग पुलिस विभाग की मिलीभगत से अपराधियों के उपर कोई कार्यवाही न होने से लगातार प्रतिबंधित कटान चल क्षेत्र में धडल्ले से चल रहा है सबसे बड़ा सवाल ये है कि कर्मचारियों पर कोई फरक नही पड़ता है।आखिर क्यो ?–