बाराबंकी ( रामानंद गुप्ता)।
छठ पूजा का यह व्रत सूर्य भगवान, उषा, प्रकृति, जल, वायु आदि को समर्पित है। इस त्यौहार को मुख्यत: बिहार में मनाया जाता था
अब इस व्रत को पूरे विश्व में बड़े हर्षोल्लास से मनाया जाता है इस व्रत को करने से नि:संतान दंपत्तियों को संतान सुख प्राप्त होता है।
कहा जाता है कि यह व्रत संतान की रक्षा और उनके जीवन की खुशहाली के लिए किया जाता है।

इस व्रत को महिलाएं व पुरुष दोनों लोग रखते हैं
इस व्रत में डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है व उगते हुए सूर्य भगवान को अर्घ देकर व्रत का समापन किया जाता है

शहर के कई स्थान कई घाटों पर महिलाएं व पुरुष पूजा अर्चना करने पहुंचे वहीं बाराबंकी शहर के श्रीनागेश्वरनाथ भी पहुंचे काफी लोग
पुलिस प्रशासन की व्यवस्था भी चौक चौबंद रही

लोगों का इस व्रत पर अटूट विश्वास है
सुनिए लोगों का इस व्रत पर क्या कहना है और इस व्रत को लोग क्यों रखते हैं