*सांसद ने ऑक्सीजन प्लांट का किया लोकार्पण, जनता को समर्पित किया प्लांट
* स्थापित हुआ जिले का पहला ऑक्सीजन प्लांट
*500 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन का होगा उत्पादन

निष्पक्ष जन अवलोकन।
नितेश मिश्रा।
बाराबंकी। सांसद उपेन्द्र सिंह रावत ने आज बाराबंकी के जिला अस्पताल में एक ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र का उद्घाटन किया। यह संयंत्र 500 एलपीएम (लीटर प्रति मिनट) तक चिकित्सा ऑक्सीजन का उत्पादन करने की क्षमता रखता है और यह कोविड-19 से पीड़ित व्यक्तियों को ऑक्सीजन थेरेपी और सांस लेने में सहायता प्रदान करेगा।
सयंत्र हवा से नाइट्रोजन को सोखकर यह ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र निरंतर 95 प्रतिशत शुद्ध चिकित्सा ऑक्सीजन का उत्पा्दन कर सकता है। यह संयंत्र अब बिना किसी बाधा के हर रोज 50 बिस्तरों को ऑक्सीनज सहायता प्रदान कर सकता है। यह संयंत्र काइज़र परमानेंट द्वारा दान किया गया था और इसे पाथ, एक नॉन गवर्नमेंट आर्गेनाइजेशन, के ज्ञान और तकनीकी समर्थन के द्वारा स्थापित किया गया था।

भारत इस साल अप्रैल में कोविड-19 महामारी की दूसरी गंभीर लहर की चपेट में आ गया था। विशेष रूप से ग्रामीण भारत के उन हिस्सों में जो सही तरीके से जुड़े नहीं हैं वहां ऑक्सीजन की भारी मांग को पूरा करने के लिए, कई नॉन गवर्नमेंट आर्गेनाइजेशन के साथ साझेदारी में उत्तर प्रदेश सरकार, प्रभावित व्यक्तियों को ऑक्सीजन सहायता प्रदान करने के लिए राज्य की ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता में सुधार करने की दिशा में काम कर रही है।
ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र के उद्घाटन के बाद, सांसद ने कहा, इस ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र की स्थापना चिकित्सा ऑक्सीजन की मांग को पूरा करने और उत्तर प्रदेश के प्रभावित लोगों को कोविड-19 से ठीक होने के लिए सही उपचार प्राप्त करने में मदद करने के हमारे मिशन में एक महत्वपूर्ण कदम है। हमें उम्मीद है कि हम भविष्य में इस तरह के और संयंत्र स्थापित करेंगे ताकि कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ हमारी चल रही लड़ाई को जारी रखा जा सकें।”

रफी अहमद किदवई स्मारक जिला चिकित्सालय बाराबंकी में कांइजर परमानेंट द्वारा दान और पाथ संस्था के समर्थन से 500 एलपीएम ऑक्सीजन उत्पादन प्लांट का लोकार्पण सांसद उपेंद्र सिंह रावत द्वारा किया गया। सांसद ने कहा कि संयुक्त चिकित्सालय सिरौलीगौसपुर, सी एच सी सिद्धौर, सी एच सी फतेहपुर सहित अन्य स्थानों पर ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना हो रही है। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष कोरोना की आहट दिखाई दी, उसके बाद पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा प्रधानमंत्री जी ने की। जब पहली लहर आई थी, उसको रोकने में हम कामयाब हुए। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए जनपद में ऑक्सीजन प्लांट को शुरू किया गया है।

इस अवसर पर जिलाधिकारी डॉ आदर्श सिंह ने कहा कि ऑक्सीजन प्लांट लगने से कोरोना की पिछली स्थिति से कहीं अधिक मजबूत स्थिति में होंगे। इसका श्रेय सभी को जाता है।

पाथ इंडिया कंट्री प्रोग्राम के प्राइमरी हेल्थ केयर, टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन के प्रमुख मोहम्मद अमील ने कहा, पाथ लगभग एक दशक से सांस से संबंधित देखभाल के क्षेत्र में काम कर रहा है। जैसे ही भारत में कोविड-19 संकट आया, हम उस समय से ही भारत में कई राज्य सरकारों और स्वास्थ्य सुविधाओं को महत्वपूर्ण सहायता प्रदान करने के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं। अपने दानदाताओं की मदद से, हम राज्यों को उनकी ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता बढ़ाने में मदद कर रहे हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि हर किसी को ऑक्सीजन थेरेपी मिल सके।
उद्घाटन समारोह के आयोजन में राजरानी रावत, अध्यक्षा जिला पंचयात, सतीश शर्मा विधायक, अवधेश श्रीवास्तव अध्यक्ष भाजपा, डा0आदर्श सिंह जिलाधिकारी, एकता सिंह मुख्य विकास अधिकारी, डा0 राम जी वर्मा, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, डा0 बृजेश कुमार, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक,जिला चिकित्सालय बाराबंकी, डा0 संगीता श्रीवास्तव, मुख्य चिकित्सा अधीक्षिका, जिला महिला चिकित्सालय बाराबंकी आदि लोग उपस्थित रहे।