मुंबई
अंडरव‌र्ल्ड डॉन और भारत में सर्वाधिक वांछित आतंकी दाऊद इब्राहिम के पैतृक स्थान रत्नागिरी में मंगलवार को उसकी छह परिसंपत्तियां करीब 23 लाख रुपये में नीलाम कर दी गईं। स्मगलर्स एंड फॉरेन एक्सचेंज मैनिपुलेटर्स (फारफिचर आफ प्रापर्टी) अथारिटी (सफेमा) द्वारा की गई वर्चुअल नीलामी में दिल्ली के वकील भूपेंद्र भारद्वाज ने चार तथा एडवोकेट अजय भारद्वाज ने दो सफल बोलियां लगाईं। यह जानकारी सफेमा के अतिरिक्त आयुक्त आरएन डिसूजा ने दी है। नीलाम की गई अधिकांश परिसंपत्तियां बदहाल, छोटे निर्माण तथा जमीन के प्लाट हैं। उन्होंने बताया कि दो परिसंपत्तियों की बोलियां आरक्षित कीमत 1.89 लाख तथा 5.35 लाख रुपये से अधिक क्रमश: 4.3 लाख तथा 11.2 लाख रुपये लगाई गईं जबकि अन्य परिसंपत्तियां आधार कीमत पर बिकीं। एक अन्य परिसंपत्ति को तकनीकी कारणों से नीलामी से वापस ले लिया गया।
डिसूजा ने बताया कि हम नीलामी सभी तीन तरीकों- सार्वजनिक नीलामी, ई-नीलामी तथा सिल्क निविदा के जरिये करते हैं, लेकिन कोरोना महामारी के कारण यह एक विचित्र स्थिति है, इसलिए हमें कुछ बदलाव करना पड़ा। सार्वजनिक नीलामी के बजाय हमने सार्वजनिक वर्चुअल नीलामी की। अधिकारियों ने बताया कि गैंगस्टर इकबाल मिर्ची के मायल्टन अपार्टमेंट के बारे में कई लोगों ने पूछताछ की, लेकिन उसके लिए कोई बोली नहीं आई। नीलामी प्रक्रिया के मुताबिक, बोली की राशि यदि 50 लाख है तो 25 फीसद राशि सात दिन के भीतर जमा करानी होगी और यदि बोली राशि 50 लाख के ऊपर है तो 25 फीसद राशि एक महीने में जमा करानी होगी। शेष राशि क्रमश: एक और तीन महीने में जमा करानी होगी।
गृह मंत्रालय ने पाकिस्तान में रह रहे 18 आतंकियों को आधिकारिक रूप से गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम कानून (यूएपीए) की सूची में शामिल कर लिया है। इस तरह से इस सूची में घोषित कुल आतंकियों की संख्या 31 हो गई है। पिछले साल अगस्त में यूएपीए में संशोधन कर सरकार ने व्यक्ति को भी आतंकी सूची में डालने का प्रावधान किया था। इसके पहले सिर्फ संगठनों को आतंकी सूची में रखा जाता था। गृह मंत्री अमित शाह के निर्देश पर जिन 18 दहशतगर्दो को सूची में शामिल किया गया है, उनमें पांच लश्कर-ए-तैयबा, चार जैश-ए-मुहम्मद, तीन हिजबुल मुजाहिदीन, चार दाऊद इब्राहिम के करीबी और दो इंडियन मुजाहिदीन के आतंकी हैं।